जोकोविच की आसान शुरुआत | खेल | DW | 14.01.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

जोकोविच की आसान शुरुआत

टाइटल होल्डर नोवाक जोकोविच आसानी से दूसरे राउंड में पहुंचे हैं तो मारिया शारापोवा को अपने दूसरे राउंड का मैच जीतने के लिए कोई मेहनत ही नहीं करनी पड़ी.

ऑस्ट्रेलियाई ओपन के रिकॉर्ड बुक को फिर से लिखने की तैयारी में लगे जोकोविच ने फ्रांस के पॉल-आंरी माथिऊ को 6-2, 6-4 और 7-5 से हरा दिया. जोकोविच इस बार लगातार तीसरी बार मेलबर्न का टूर्नामेंट जीतने की कोशिश में है. यह उनका चौथा टाइटल होगा. अब तक किसी खिलाड़ी ने यह टूर्नामेंट लगातार तीन बार नहीं जीता है.

मैच से पहले इसे खतरनाक मैच कहा जा रहा था, जो नोकोविच के लिए मुश्किलें ला सकता था. माथिऊ चोटी के 20 खिलाड़ियों में शामिल रहे हैं और 2008 में वह 12वें स्थान पर पहुंच गए थे. उसके बाद उन्हें घुटने का ऑपरेशन करना पड़ा जिसकी वजह से उनका पूरा सीजन बर्बाद गया और वे रैंकिंग में नीचे उतर गए.

मैच के बाद सर्बिया के 25 वर्षीय जोकोविच ने कहा, "मैं इस मैच में शुरू से ही बहुत केंद्रित था क्योंकि मुझे अपने विरोधी की क्षमता का पता था. वे लंबे समय से टूर पर हैं और उन्होंने डेविस कप का फाइल खेला है." 31 वर्षीय फ्रांसीसी खिलाड़ी ने खेल में कभी कभी अपनी प्रतिभा दिखाई लेकिन वे जोकोविच को आसान जीत से नहीं रोक पाए. जीत के लिए नोकोविच को 1 घंटा 42 मिनट लगा.

इस बार स्पेन के रफाएल नडाल टूर्नामेंट में हिस्सा नहीं ले रहे हैं. ऐसे में विश्व के नंबर एक खिलाड़ी जोकोविच को स्विट्जरलैंड के रोजर फेडरर और एंडी मरे से खास मुकाबला करना होगा. अब तक 17 ग्रैंड स्लैम खिताब जीत चुके फेडरर के लिए ऑस्ट्रेलिया में जीत बहुत मायने रखती है. जोकोविच भी इस बात को जानते हैं. वैसे वह मरे को भी बड़ा खिलाड़ी बताते हैं, "वह एक ग्रैंड स्लैम और ओलंपिक चैंपियन बन चुके हैं. वह महान खिलाड़ी हैं. मैं समझता हूं कि वह अपने दिमाग पर अच्छा नियंत्रण रख सकते हैं."

उधर महिलाओं के वर्ग में दूसरे नंबर की खिलाड़ी मारिया शारापोवा ने पहला मैच आसानी से 6-0, 6-0 से जीत लिया. उन्होंने अपने ही देश की ओल्गा पुचकोवा को आसानी से हरा दिया. इसके साथ ही उन्होंने चारों ग्रैंड स्लैम मुकाबले में अपने प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ "निल गेम" जीत लिया. यानी चारों जगह वह ऐसा मैच खेल चुकी हैं, जहां सामने वाली खिलाड़ी कोई स्कोर नहीं कर पाई हैं. 107वें नंबर की खिलाड़ी को हराने में उन्हें 55 मिनट भी नहीं लगे.

शारापोवा का जलवा हाल के दिनों में नहीं चल पा रहा था लेकिन पिछले साल फ्रेंच ओपन जीत कर उन्होंने चारों ग्रैंड स्लैम अपने नाम कर लिए हैं. उन्होंने यह कामयाबी 25 साल की उम्र में हासिल की. हालांकि ऑस्ट्रेलियाई ओपन जीते हुए उन्हें पांच साल हो गए हैं. वह 2008 में यह खिताब एकमात्र बार जीती हैं. मौजूदा चैंपियन बेलारूस की विक्टोरिया अराजेंका हैं.

एजेए/एमजे (रॉयटर्स, एएफपी)

WWW-Links