1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

जॉन बनाएंगे भारत की पहली अंतरराष्ट्रीय फिल्म

बॉलीवुड में खेलों पर आधारित फिल्में हिट नहीं हुआ करती थीं, लेकिन भाग मिल्खा भाग की सफलता के बाद खेलों और खेल सितारों पर फिल्में बनाने का चलन चल गया. जल्द ही मेरी कॉम के जीवन पर फिल्म आने वाली है और मोहन बागान टीम पर भी.

बॉलीवुड के जानेमाने अभिनेता और फिल्मकार जॉन अब्राहम का कहना है कि उनकी आने वाली फिल्म 1911 देश की पहली अंतरराष्ट्रीय फिल्म होगी. यह फिल्म 1911 में इतिहास रचने वाले भारतीय फुटबॉल खिलाड़ी सिबदास भादुड़ी के बारे में है. जॉन अब्राहम ने फिल्म के बारे में कहा, "यह 1911 के ऐतिहासिक आईएफए शील्ड के अंतिम मैच में मोहन बागान टीम की कप्तानी करने वाले भादुड़ी के जीवन की वास्तविक और प्रेरणादायक कहानी है." इस मैच में मोहन बागान की टीम ने ईस्ट यार्कशर रेजीमेंट टीम को हराकर एशिया कप जीता था.

अच्छी और संदेश देने वाली फिल्में करने वाले जॉन अब्राहम ने इस फिल्म में वास्तविकता लाने के लिए असली फुटबॉल खिलाड़ियों को लेने पर विचार कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि यह एक अच्छा विचार है, लेकिन फिल्म के कलाकार इस समय असल फुटबॉल सितारे हैं, फिल्म सितारे वे बाद में होंगे. जो खिलाड़ी इस समय फीफा विश्व कप में व्यस्त हैं, बाद में उनके सामने भी फिल्म का प्रस्ताव रखने का इरादा है.

जॉन ने कहा, "मैं उम्मीद करता हूं कि मेरी दो फिल्मों 'विक्की डोनर' और 'मद्रास कैफे' की तरह '1911' भी सफल होगी. जब लोगों ने मुझसे 'विक्की डोनर' और 'मद्रास कैफे' के बारे में पूछा था, तब भी मैंने कहा था कि यह अलग तरह की फिल्में हैं. लेकिन लोग तब तक इस बात को समझ नहीं पाए जब तक उन्होंने फिल्में नहीं देखीं." उन्होंने इस पर जोर दिया कि 1911 भारत की पहली अंतरराष्ट्रीय फिल्म होगी.

आईएफए शील्ड भारतीय फुटबॉल संघ का वार्षिक टूर्नामेंट है. यह 1893 में शुरू हुआ था और विश्व का चौथा सबसे पुराना क्लब कप टूर्नामेंट है. मोहन बागान 1911 में इस टूर्नामेंट को जीतने वाला पहला भारतीय क्लब था. उसने यॉर्कशर रेजीमेंट को 2-1 से हराया था. इस जीत के साथ मोहन बागान ने सनसनी फैला दी थी क्योंकि उसके खिलाड़ी नंगे पैरों से खेले थे जबकि यॉर्कशर की टीम उस समय के फुटबॉल में इस्तेमाल होने वाले आधुनिक साज सामानों से लैस थी.

मोहम बागान एशिया के सबसे पुराने क्लबों में शामिल है. वह 1889 में बना था. वह पहला क्लब था जिसने 1943 में घायल खिलाड़ियों के इलाज के लिए बीमा सुविधा देकर इतिहास रचा था.

एमजे/आईबी (वार्ता)

संबंधित सामग्री