1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

जैक्सन के डॉक्टर की सुनवाई

सरकारी वकील का कहना है कि माइकल जैक्सन के डॉक्टर ने उनके इलाज में बहुत देर कर दी. इस कारण जैक्सन की मौत हो गई. अभियोक्ता का कहना है कि जैक्सन के बेहोश मिलने और एंबुलेंस को फोन करने के बीच काफी समय गुजरा.

default

पॉप स्टार माइकल जैक्सन के डॉक्टर कॉनराड मरे की शुरुआती सुनवाई के दौरान डॉक्टर पर गैर इरादतन मानव हत्या का आरोप लगाया है. मरे जैक्सन के डॉक्टर थे और उनके इलाज के दौरान ही जैक्सन की दवाई की ज्यादा मात्रा के कारण 25 जून 2009 में मौत हुई थी.

लॉस एंजेलिस के उप जिला अटॉर्नी डेविड वालग्रेन का कहना है कि जिस समय डॉक्टर को जैक्सन बेहोश मिले और जब जैक्सन के सुरक्षाकर्मियों ने एंबुलेंस बुलाई उसके बीच में 20 मिनट गुजर गए.

जैक्सन के स्टाफ ने जब उन्हें होश में लाने की कोशिश की तब उनका लड़का प्रिंस, और लड़की पेरिस बेडरूम के बाहर थे, वह फूट फूट कर रो पड़े.

- Michael Jackson Trauerfeier Flash-Galerie

यह अहम है कि इस मौके पर 911 (आपात सेवा) को फोन नहीं किया गया और डॉक्टर मरे ने भी इसके लिए आदेश नहीं दिया. फोन करने की बजाए डॉक्टर मरे एक सुरक्षा गार्ड को साथ लेकर उनके साथ अलग अलग जगह से मेडिकल सबूत इकट्ठा कर रहे थे. जैक्सन की मौत प्रोपोफॉल के ओवरडोज के कारण हुई. सामान्य तौर पर प्रोपोफोल ऑपरेशन में इस्तेमाल किया जाता है जिसे जैक्सन नींद की दवाई के तौर पर ले रहे थे.

ह्यूस्टन के डॉक्टर मरे का एक और क्लीनिक लास वेगास में है जो कि जैक्सन के इलाज के लिए खास तौर पर लिया गया था ताकि लंदन में होने वाली कन्सर्ट के दौरान काम आए. वालग्रेन का कहना है कि जब पॉप स्टार अल सुबह रिहर्सल करके लौटे तो डॉक्टर मरे ने उन्हें शांत करने के लिए कई दवाइयां दी. सुबह डेढ़ बजे वालियम और सबसे आखिर में सुबह साढ़े दस से ग्यारह के बीच प्रोपोफोल का इंजेक्शन.

वालग्रेन ने कहा कि मरे को 11 51 पर फोन आया और दोपहर में उन्होंने पाया कि जैक्सन ने सांस लेना बंद कर दिया है. जैक्सन के सुरक्षागार्ड ने 12 21 पर आपात सेवा को फोन किया. इसके बाद वालग्रेन का कहना है, कि इसके बाद मरे जैक्सन को लेकर मरे यूसीएलए मेडिकल सेंटर में ले गए. बहुत संभव है कि मरे ने यूसीएलए डॉक्टरों को प्रोपोफॉल ट्रीटमेंट के बारे में नहीं बताया होगा जो पिछले दो महीने से जैक्सन को वह दे रहे थे. फहीम मोहम्मद जैक्सन के सुरक्षा प्रमुख हैं, उन्होंने बताया कि जब वह जैक्सन के कमरे की तरफ आए तब डॉक्टर मरे ने उनसे पूछा कि क्या उन्हें कत्रिम श्ववास देना (सीपीआर) आता है. सुरक्षा गार्ड ने कहा कि इससे उन्हें बहुत आश्चर्य हुआ क्योंकि मरे खुद दिल के डॉक्टर हैं.

मोहम्मद ने कहा कि जैक्सन के बच्चे प्रिंस और पेरिस कमरे के बाहर थे और पेरिस जमीन पर घुटने के बल बैठी रो रही थी.

जैक्सन के सहायक केनी ओर्टेगा ने पुष्टि की कि उन्होंने जैक्सन को 19 जून 2009 को रिहर्सल से जल्दी भेजा क्योंकि जैक्सन की तबियत ठीक नहीं लग रही थी. इसके बाद वह एक बैठक के लिए गए जहां मरे ने कहा कि जैक्सन के स्वास्थ्य को वह उन पर छोड़ दें.अटॉर्नी ने कहा कि मरे ने मंगलवार को कोई बयान नहीं दिया. मरे ने माना है कि उन्होंने जैक्सन को प्रोपोफोल दी लेकिन उन्होंने गैर इरादतन हत्या का आरोप नहीं माना है.

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः एन रंजन

DW.COM