1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

जेल में रहेंगे बायर्न प्रमुख

जर्मनी के सबसे बड़े फुटबॉल क्लब बायर्न म्यूनिख के प्रमुख ऊली होएनेस ने सजा पाने के बाद जेल जाने का फैसला किया है. वह इसके खिलाफ अपील नहीं करेंगे. टैक्स चोरी कांड में उन्हें साढ़े तीन साल की जेल की सजा हुई है.

मौजूदा चैंपियंस लीग चैंपियन बायर्न म्यूनिख कामयाबी की बुलंदियों पर होएनेस के दौर में ही पहुंचा है. वह लंबे वक्त तक क्लब के प्रेसिडेंट रहे हैं और उससे पहले टीम के लिए खेल भी चुके हैं. होएनेस ने कबूल किया है कि उन्होंने स्विट्जरलैंड के बैंक खातों की मदद से टैक्स चोरी की है.

शुक्रवार को बायर्न म्यूनिख की वेबसाइट पर एक छोटा सा बयान जारी किया गया है. इसमें होएनेस के हवाले से कहा गया है कि अपने परिवार से बात करने के बाद उन्होंने सजा को कबूल करने का फैसला किया है. "अपने परिवार से चर्चा के बाद मैंने फैसला किया है कि मेरे टैक्स वाले मामले पर म्यूनिख की अदालत का फैसला स्वीकार करूंगा. यह मेरी निजी समझ और जिम्मेदारी के लिए जरूरी है. टैक्स की चोरी करना मेरी जिंदगी की सबसे बड़ी गलती थी."

उन्होंने बायर्न म्यूनिख के प्रेसिडेंट और दूसरे सभी पदों को भी फौरन छोड़ने का एलान कर दिया है. वह क्लब के सुपरवाइजरी बोर्ड के प्रमुख भी हैं. 62 साल के होएनेस ने कहा कि वह क्लब का हित चाहते हैं, "बायर्न म्यूनिख मेरी जिंदगी भर का काम है और बना रहेगा."

उन्होंने इसी हफ्ते अदालत में स्वीकार किया है कि उन्होंने पड़ोसी मुल्क स्विट्जरलैंड में पैसे छिपा कर रखे और अपनी आमदनी पर उन्होंने करोड़ों का टैक्स नहीं दिया. अपने गोपनीय और रहस्यमयी बैंक खातों के लिए यूरोपीय देश स्विट्जरलैंड हमेशा से बदनाम रहा है.

जर्मनी में टैक्स चोरी के मामले को बेहद गंभीरता से लिया जाता है. मौजूदा चांसलर अंगेला मैर्केल ने टैक्स चोरी करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है. अपने पिछले कार्यकाल में उन्होंने स्विट्जरलैंड से टैक्स चोरी करने वालों की एक सीडी हासिल की थी. इसमें जर्मनी के अलावा भारत सहित कई दूसरे देशों के लोगों के नाम भी शामिल थे, जिनके गोपनीय बैंक खाते स्विट्जरलैंड में हैं.

एजेए/एमजे (डीपीए, रॉयटर्स)