1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

जुल्कार पर गेंद फेंकने के लिए ब्रॉड को सजा

इंग्लैंड के क्रिकेटर स्टुअर्ट ब्रॉड पर पाकिस्तानी बल्बेबाज जुल्कारनैन पर गेंद फेंकने के लिए जुर्माना किया गया है. ब्रॉड को अपनी मैच फीस का आधा हिस्सा बतौर जुर्माना देना होगा. उन्होंने जुल्कार पर गुस्से से बॉल फेंकी.

default

ब्रॉड ने 63वें ओवर के बाद झल्लाते हुए जुल्कार की ओर गेंद फेंकी. अपना पहला टेस्ट खेल रहे जुल्कार वहां से हटे नहीं और बॉल उनके कंधे पर लगी. तब 22 रन पर खेल रहे जुल्कार ने बाद में 88 रन बनाए और पाकिस्तान को पारी की हार से बचाने में अहम भूमिका निभाई.

अंपायरों ने 24 साल के ब्रॉड पर 'खिलाड़ी की ओर खतरनाक तरीके से गेंद फेंकने' का आरोप लगाया और ब्रॉड ने अपनी गलती मानी. मैच रेफरी रंजन मदुगले ने आईसीसी की तरफ से सोमवार को जारी एक बयान में कहा, "ब्रॉड की हरकत स्वीकार करने लायक नहीं थी." उनका अपराध स्तर दो का माना गया और उन पर 2000-2500 पाउंड्स की कैटिगरी में जुर्माना किया गया.

मदुगले ने कहा कि तनाव के पलों में एक गेंदबाज की हताशा को समझा जा सकता है लेकिन एक अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी को इस तरह के जज्बात पर काबू रखना चाहिए और अपने विरोधी खिलाड़ी का सम्मान करना चाहिए, भले ही हालात कैसे भी हों.

यह घटना स्टुअर्ट की एक अपील खारिज होने के फौरन बाद हुई. स्टुअर्ट ने विकेट के पीछे कैच की अपील की लेकिन अंपायर मराइस इरासमुस ने उसे ठुकरा दिया. स्टुअर्ट ने इस फैसले के खिलाफ डिसीजन रिव्यू सिस्टम का सहारा लिया, लेकिन वहां से भी उनकी अपील ठुकरा दी गई. इसके बाद उन्होंने गुस्से में जुल्कार की ओर गेंद फेंकी.

इस बात पर नाराजगी जाहिर करते हुए अंपायरों ने इंग्लैंड के कप्तान एंड्र्यू स्ट्रॉस से बात की. इसके बाद स्टुअर्ट ने जुल्कार से बस हाथ हिलाकर माफी मांगी. लेकिन साफ पता चला कि उन्होंने माफी दिल से नहीं मांगी.

दिन का खेल खत्म होने के बाद पाकिस्तान के कप्तान सलमान बट ने कहा, "इस तरह खिलाड़ियों पर जानबूझ कर गेंद फेंकना और फिर सही तरीके से माफी तक ना मांगना कोई अच्छी बात नहीं."

स्टुअर्ट की इस हरकत पर कई पूर्व क्रिकेटरों ने भी नाराजगी जाहिर की है. 'डेली मेल' अखबार के लिए इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन ने लिखा है, "अगर आप स्टुअर्ट का इतिहास देखें तो पाएंगे कि वह कई बार हद कर देते हैं." हुसैन ने पूर्व भारतीय क्रिकेटर सुनील गावस्कर के एक बयान का जिक्र करते हुए लिखा, "(भारतीय) उपमहाद्वीप से खासतौर पर इस तरह की बातें उठती रही हैं कि स्टुअर्ट को इस तरह की हरकतों की सजा इसलिए नहीं मिलती क्योंकि उनके पिता क्रिस ब्रॉड रेफरी हैं."

साउथ अफ्रीका के खिलाफ एक टेस्ट मैच में आउट दिए जाने के बाद स्टुअर्ट ने अंपायरों से बहस की लेकिन उन्हें सजा नहीं मिली. इसके बाद गावस्कर ने कहा कि उन्हें उनके पिता की वजह से सजा नहीं मिली.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः आभा एम