1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

जुल्करनैन ने एजाज बट को बताया अपना हाल

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के चेयरमैन ने क्रिकेटर जुल्करनैन हैदर से बात की है और उन्हें पूरा सहयोग करने का भरोसा दिलाया है. मैच खेलने दुबई गए जुल्करनैन जान मारने की धमकी मिलने के बाद भाग कर लंदन आ गए.

default

जुल्करनैन ने कहा है कि उन्होंने पीसीबी अध्यक्ष एजाज बट को पूरे हाल से वाकिफ करा दिया है. बट ने उनसे फोन कर अचानक होटल छोड़ कर भागने के पीछे की परिस्थितियों के बारे में विस्तार से बात की. पाकिस्तानी न्यूज चैनल जियो टीवी से जुल्करनैन ने कहा," मैंने उन्हें सब कुछ विस्तार से बता दिया है. मैंने उन्हें बताया कि दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ चल रही सीरीज में मैच फिक्सिंग के रैकेट में फंसने का मेरा डर बिल्कुल वाजिब है. मैंने अपनी बातें उनसे कहीं और उन्होंने मुझे भरोसा दिलाया कि बोर्ड इस मामले में मेरी पूरी मदद करेगा."

Ijaz Butt Pakistan Cricket

सहयोग का भरोसा

सोमवार को जुल्करनैन के लंदन पहुंचने के बाद से ही पीसीबी उनसे संपर्क करने की कोशिश में जुटी थी. बुधवार को पीसीबी ने जुल्करनैन के साथ अपना करार रद्द कर दिया और कहा कि आगे की जांच के बाद इस पर फैसला लिया जाएगा. जुल्करनैन का कहना है कि उन्होंने बहुत सोचने के बाद लंदन से शरण मांगने का फैसला किया. उन्होंने कहा, "मैं कोई बेवकूफ नहीं कि क्रिकेट में शानदार दिखते भविष्य को छोड़ कर लंदन जाने के लिए अपना देश छोड़ दूं. मैंने ऐसा किसी खास मकसद से किया और मैं यहां खुद को सुरक्षित महसूस कर रहा हूं."

जुल्करनैन का ये भी कहना है कि उन्होंने अपने रूम में दो चिट्ठियां भी छोड़ी थीं जो आईसीसी की भ्रष्टाचार निरोधी शाखा को लिखी गईं थी. लंदन में पाकिस्तान के उच्चायुक्त वाजिद शमसुल हसन ने गुरुवार को जुल्करनैन से मुलाकात की और उन्हें जरूरत पड़ने पर कानूनी सहायता देने का भरोसा दिलाया.जुल्करनैन का कहना है कि मैच फिक्सिंग करने वालों के साथ सहयोग का आदेश मिलने के बाद उन्हें अपनी सुरक्षा का डर सता रहा है. उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने का भी एलान कर दिया है. जुल्करनैन के मुताबिक उनसे दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पांचवे वनडे मैच को फिक्स करने के लिए किसी शख्स ने संपर्क किया था.

पाकिस्तानी क्रिकेटर ने इस बात से भी इंकार किया है कि उन्होंने टीम से भागने के लिए पैसे लिए हैं. उनका कहना है,"कोई भी मेरे अकाउंट चेक कर सकता है उससे उसे पता चल जाएगा कि मेरी क्या हालत है.मुझे अपने फैसले पर कोई पछतावा नहीं. जिन लोगों ने क्रिकेट को खराब किया है वही लोग मुझ पर ऐसे आरोप लगा रहे हैं."

हैदर फिलहाल पाकिस्तान वापस नहीं लौटना चाहते उन्हें अपनी जान का खतरा है. उन्होंने ये भी कहा "जब बेनजीर भुट्टो पाकिस्तान में सुरक्षित नहीं रह सकीं तो मैं तो बस एक मामूली क्रिकेटर हूं."

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः महेश झा

संबंधित सामग्री