1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

जुकाम और जानलेवा फ्लू में फर्क पहचाने

जुकाम और फ्लू अलग अलग हैं. लेकिन यह अंतर पहचाना आसान नहीं होता. चलिये जानते हैं कि फ्लू और आम जुकाम में फर्क क्या है.

फ्लू, इनफ्लूएंजा वायरस के संक्रमण से होता है. यह वायरस सर्दियों में तेजी से फैलता है. लेकिन इसी दौरान जुकाम के मामले भी तेजी से बढ़ते हैं. यही वजह है कि अक्सर फ्लू और जुकाम में अंतर करना मुश्किल हो जाता है.

आम जुकाम धीरे धीरे ताकतवर होता है. आम तौर पर इसकी शुरूआत गले में खराश और हल्के जुकाम से होती है. फिर यह ब्रॉन्काइटिस या सूखे कफ में बदलता है. फिलहाल मिलने वाली दवाएं इस पर बहुत कारगर नहीं होती. घरेलू नुस्खे अपनाना बेहतर विकल्प है. जैसे भाप लेना, नाक में स्प्रे, कफ सीरप और शहद आदि से फायदा मिलता है. वैसे भी पुरानी कहावत है कि डॉक्टर के पास जाएंगे तो जुकाम 14 दिन में ठीक हो जाएगा, और नहीं जाएंगे तो दो हफ्ते लगेंगे.

फ्लू इससे अलग है. आम तौर पर फ्लू का हमला एक झटके से होता है. बहुत ही जल्दी रोगी बहुत ज्यादा बीमार महसूस करने लगता है. अचानक तेज बुखार आ जाता है. नाक बहने के साथ साथ सिर में और जोड़ों में दर्द होने लगता है. रोगी को हफ्ते भर तक बहुत ही ज्यादा थकान महसूस होती है. ऐसे में सबसे बेहतर है कि आराम किया जाए. दौड़ भाग या सांस फुलाने वाला काम बिल्कुल न करें, वरना फ्लू फेफड़ों तक फैल सकता है और जानलेवा बन सकता है. फ्लू का शिकार होने पर डॉक्टर के पास जाना चाहिए क्योंकि फ्लू आसानी से निमोनिया में भी बदल जाता है.

ओएसजे/आरपी

 

DW.COM