1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

जिंदा पकड़े गए पाक आतंकी के खुलासे

भारतीय सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ में एक पाकिस्तान आतंकी को कब्जे में लिया है. बीते महीनों में भारत-पाकिस्तान सीमा पर नियमित गोलीबारी हुई है. इसके बीच अगस्त में ही दोनों देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मिलने वाले हैं.

स्थानीय लोगों की मदद से नावेद नाम के इस शख्स ने अपने दूसरे साथियों के साथ जम्मू और कश्मीर के ऊधमपुर में बीएसएफ काफिले पर हमला बोला था. पंजाब के दीनानगर पुलिस स्टेशन पर हुए हमले के केवल नौ दिन बाद ही ऊधमपुर जिले में हुआ यह आतंकी हमला पिछले एक दशक में पहला मामला है. ऊधमपुर में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के काफिले पर हमला करने वाले आतंकवादियों में से एक को जिंदा पकड़ लिया गया. आधिकारिक सूत्रों ने पकड़े गए आतंकवादी की पहचान मोहम्मद नवीद याकूब के रूप में की है जो पाकिस्तान के फैसलाबाद का रहने वाला है. हमले में सीमा सुरक्षा बल के दो लोग मारे गए जबकि 11 लोग घायल हुए.

पूछताछ में नवीद ने बताया कि करीब दो महीने पहले वह अपने चार और साथियों के साथ कश्मीर घाटी में दाखिल होने की कोशिश की थी लेकिन फिर आगे बढ़ने में असफल रहने पर उन्हें बारामुला होते हुए लौटना पड़ा. बाद में नवीद और तीन अन्य आतंकियों ने बारामुला इलाके में ही बाड़ को काटकर घुसने में सफलता पाई और कुछ दिनों तक तंगमर्ग और बाबा रेशी में छुपे रहे. इसके बाद दो हिस्सों में बंटकर नवीद अपने एक साथी नोमान के साथ दक्षिण कश्मीर के कुलगाम पहुंचा, जहां से उन दोनों ने जम्मू के ऊधमपुर जाने के लिए सवारी ली. पकड़े गए आतंकी ने बताया है कि उसे लश्कर ए तैयबा ने ट्रेनिंग दी थी.

लोकसभा में एक बयान में भारत के गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सदन को कब्जे में लिए गए आतंकवादी के बारे में जानकारी दी. सिंह ने बताया कि जिंदा गिरफ्त में लिए गए नवीद से सीमा पार से होने वाली घुसपैठ और आतंकियों के निशाने के बारे में सूचना ली जाएगी. इस बीच यह भी साफ हो गया है कि भारत इन आतंकी घटनाओं के बावजूद पड़ोसी देश के साथ राष्ट्रीय सुरक्षा प्रमुख स्तर पर बातचीत की योजना पर अडिग है. आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, "23-24 अगस्त को दोनों देशों के एनएसए के बीच वार्ता आयोजित करने के हमारे प्रस्ताव पर अभी इस्लामाबाद की ओर से प्रतिक्रिया का इंतजार है. वार्ता का मेजबान देश होने के कारण भारत ने ये तारीखें भारत के राष्ट्रीय रक्षा सलाहकार अजित डोवाल और पाकिस्तानी सलाहकार सरताज अजीज को भेजी हैं. प्रधानमंत्री मोदी और पाकिस्तानी पीएम नवाज शरीफ ने जुलाई में ही रूस के उफा में आयोजित एससीओ सम्मेलन के दौरान मुलाकात की थी और बातचीत को आगे बढ़ाने का फैसला किया था.

आरआर/एमजे (पीटीआई)

DW.COM

संबंधित सामग्री