जासूसी के आरोप में आईएफएस अधिकारी गिरफ्तार | दुनिया | DW | 28.04.2010
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

जासूसी के आरोप में आईएफएस अधिकारी गिरफ्तार

पाकिस्तान के लिए जासूसी करने के आरोप में भारतीय उच्चायोग की एक महिला अधिकारी ग़िरफ़्तार. प्रतिष्ठित मानी जाने वाली भारतीय विदेश सेवा अधिकारी माधुरी गुप्ता को नई दिल्ली में गिरफ्तार किया गया. कुछ अन्य अफसरों पर भी शक.

default

जांच कर रही है दिल्ली पुलिस

इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायोग में तैनात 53 साल की आईएफ़एस अधिकारी माधुरी गुप्ता की गिरफ़्तारी की पुष्टि करते हुए गृहसचिव जीके पिल्लई ने कहा कि गुप्ता पाकिस्तानी एजेंसियों को सूचनाएं लीक कर रही थीं. सचिव स्तर की बी ग्रेड की यह अधिकारी क़रीब तीन साल से इस्लामाबाद में नियुक्त थी. गुप्ता पर आरोप लग रहे हैं कि वह पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई के संपर्क में थीं.

गुप्ता की गिरफ्तारी चार दिन पहले हुई, लेकिन इसकी पुष्टि मंगलवार को की गई. अधिकारियों का कहना है कि शक होने के बाद आरोपी अफसर पर भारत के ख़ुफ़िया विभाग ने निगरानी रखनी शुरू की. जांच के दौरान यह पता चला कि गुप्ता पाकिस्तान के लिए जासूसी कर रही हैं.

सूत्रों का कहना है कि गुप्ता को सार्क बैठक की तैयारियों का बहाना देकर दिल्ली बुलाया गया और गिरफ्तार कर लिया गया. अदालत ने गुप्ता को चार दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया है. फिलहाल उनसे दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल पूछताछ कर रही है.

सूत्रों का यह भी कहना है कि इस्लामाबाद में तैनात भारत की विदेश ख़ुफ़िया एजेंसी (रॉ) के स्टेशन हेड आरके शर्मा भी शक के घेरे में हैं. इस्लामाबाद में गुप्ता रॉ के अधिकारी शर्मा से गोपनीय सूचनाएं लेती थीं और जानकारियों को पाकिस्तानी एजेंसियों को देती थीं. अभी यह साफ नहीं हुआ है कि रॉ के स्टेशन हेड को माधुरी गुप्ता की जासूसी के बारे में पता था या नहीं.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह

संपादन: एम गोपालकृष्णन