1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

जाम हो जाएगा जीपीएस

अमेरिका एक रहस्यमयी परीक्षण कर रहा है. एक्सपेरिमेंट सैकड़ों किलोमीटर के इलाके में ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (जीपीएस) को जाम कर सकता है. विमानों को चेतावनी दी गई.

अमेरिका के संघीय उड्डयन प्रशासन ने एक अधिसूचना जारी की है. इसमें जून के छह दिनों को लेकर सलाह दी गई है. डॉक्यूमेंट के मुताबिक कैलीफोर्निया प्रांत में उन छह दिनों में "जीपीएस इंटरफेस टेस्टिंग" की जाएगी.

पश्चिमी तट पर होने वाले इस परीक्षण की शुरुआत 7 जून को हो चुकी है. इस दौरान जमीन से 50 फुट ऊपर जीपीएस के सिग्नल "अविश्वसनीय या नदारद" हो सकते हैं. इसका असर 40,000 फुट की ऊंचाई तक रहेगा. ऐसा 6 घंटे तक रहेगा. इसका प्रभाव सैकड़ों किलोमीटर दूर न्यू मेक्सिको और कोलोराडो तक फैल सकता है. जमीन पर इसका कोई असर नहीं होगा.

Symbolbild Radarbildschirm

रडार पर हर रोज ऐसी दिखती है यात्री विमानों की भीड़

संघीय उड्डयन प्रशासन ने एयरलाइन कंपनियों को चेतावनी देते हुए कहा कि "जीपीएस की मदद से उड़ने वाले सभी विमानों" को खास इलाके में इसके असर का सामना करना पड़ सकता है. एयरलाइन कंपनियों और 300 बिजनेस जेटों से इस इलाके में उड़ान न भरने की गुजारिश की गई है. चेतावनी में कहा गया है कि प्रयोग 'फ्लाइट स्टेबिलिटी कंट्रोल्स' पर असर डाल सकता है. यात्री विमान 30 से 40 हजार फुट की ऊंचाई में उड़ान भरते हैं.

प्रयोग के बारे में अमेरिकी सेना और उड्डयन प्रशासन ने और कोई सूचना नहीं दी है. सलाह में इतना ही कहा गया है कि 9, 21, 23, 28 और 30 जून को परीक्षण किये जाएंगे, इस दौरान जीपीएस पर आधारित सभी विमानों को चेतावनी दी जाती है कि वे इलाके में इसका असर महसूस करेंगे.

DW.COM

संबंधित सामग्री