1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मंथन

जाबांजों को पुकारती खदान

वेल्स का उत्तरी हिस्सा. यहां के सुंदर गांव और पहाड़ियों वाले रास्ते पर्यटकों को अपनी ओर खींचते हैं. रोमांच के शौकीन यहां अपने आप को टेस्ट करने आते हैं, कूदकर या फिर रस्सी के सहारे हवा में फिसलकर.

वेल्स की ल्हेखवेद खदान में जमीन के भीतर दुनिया का सबसे बड़ा ट्रैंपोलीन है. इसका नाम है बाउंस बिलो. यहां घुसने से पहले पर्यटक सेफ्टी हेल्मेट और जैकेट पहनते हैं. लोगों के मन में अलग अलग ख्याल आते हैं, जैसे सुरंग के अंदर क्या होगा. किसी को घने अंधेरे का तो किसी को सांस फूलने का डर है. कुछ लोग इसकी बनावट देखने आए हैं.

वापस जाने का कोई रास्ता नहीं बचा है. कुछ मिनटों तक खदान वाली ट्रेन पुरानी सुरंगों से गुजरती है और फिर पहुंचते हैं ट्रैंपोलीन. तीन जालों को एक के ऊपर एक लगाया गया है और पर्यटक इन जालों पर कूदते हैं. यह गुफा 60 मीटर लंबी और 35 मीटर ऊंची है. ट्रैंपोलीन बनाने वाली कंपनी ऐसी अजीबो गरीब जगहों पर फन स्पोर्ट्स कराती है.

खदान के भीतर ट्रैंपोलीन बनाने का आइडिया कुछ दोस्तों का आया. उन्होंने जिप वर्ल्ड नाम की कंपनी बनाई और काम शुरू कर दिया. जिप वर्ल्ड के प्रमुख शॉन टेलर के मुताबिक, "हमारी कंपनी में अलग अलग तरह के लोग हैं. कुछ दोस्तों को ये आइडिया आया. हम कुछ अलग सा चाहते थे, और यह अलग है. दुनिया में ये अकेल है. और हम कुछ ऐसा चाहते थे जो हर मौसम में साल भर चले और तापमान एक सा हो."

आठ डिग्री की ठंड के बावजूद लोग रोमांच की गर्मी महसूस कर रहे हैं. ट्रैंपोलीन में कूदने का अनुभव उनकी सांसें तेज कर रहा है.

पत्थर की खदान

कभी यहां स्लेटी पत्थर की खदान थी. तब यहां 17,000 लोग काम करते थे. औद्योगिक क्रांति के बाद कारोबार कम होता रहा. ट्रैंपोलीन लगाने से पहले खदान के अंदर से 300 टन मलबा निकालना पड़ा. गुफाओं के अंदर एक झील को पूरी तरह सुखाया गया. ट्रैंपोलीन के अलावा इसी कंपनी ने स्नोडनिया नेशनल पार्क में एक रोपवे बनाया है जिसमें टंग कर सैलानी एक जगह से दूसरी जगह जाते हैं.

रोप फ्लाइंग

100 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से सैलानी 1,750 मीटर लंबी स्टील की रस्सी से फिसलते हैं. अब कंपनी इससे भी ज्यादा रोमांचक खेल पेश करने की योजना बना रही है. टेलर कहते हैं, "यह एक टॉप सीक्रेट प्रोजेक्ट है. आप पहले हैं जिन्हें हम यह बता रहे हैं. इसका नाम है जिप बिलो. यह एक जिप लाइन होगी और आप रस्सी से फिसलेंगे. जमीन के नीचे कंप्यूटर एनिमेशन का इस्तेमाल करेंगे और आग, पानी और लुढ़कते पत्थरों को मिलाकर एक खास माहौल बनाएंगे. डेढ़ घंटे तक आप जमीन के नीचे जिप करेंगे. ऐसा दुनिया में पहली बार होगा."

ऐसे एक्स्ट्रीम गेम्स की मदद से वेल्स में और लोगों को खींचने की कोशिश हो रही है. उम्मीद है कि जिप वर्ल्ड की तरह फिर वेल्स के बाहर भी पर्यटकों के कतार दिखाई दे.

रिपोर्ट: मारिया सेलखोव/एमजी

संपादन: ओंकार सिंह जनौटी

DW.COM

संबंधित सामग्री