1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

जानिए जर्मन राजनीतिक पार्टियों की एबीसी

इस साल जर्मन आम चुनावों में टक्कर कांटे की हो सकती है. जितना दिलचस्प चुनावी मुकाबला होगा, उतना ही अहम चुनाव के बाद गठबंधन बनाना होगा. एक नजर जर्मनी की अहम पार्टियों के इतिहास, उनकी नीतियों और नेताओं पर.

क्रिश्चियन डेमोक्रैटिक पार्टी (सीडीयू) / क्रिश्चियन सोशल यूनियन (सीएसयू)

रंग: काला

अध्यक्ष: अंगेला मैर्केल

सदस्यों की संख्या: 430,000

मतदाता: सीडीयू और सीएसयू के मतदाताओं में अब भी ज्यादातर 60 साल से ज्यादा उम्र के लोग, चर्च जाने वाले और ग्रामीण इलाकों में खासकर दक्षिणी जर्मनी के ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोग शामिल हैं. छोटे कारोबारियों और कम या माध्यमिक स्तर तक पढ़े लोगों में सीडीयू का अच्छा खासा जनाधार है.

2103 के आम चुनाव के परिणाम:41.5 प्रतिशत वोट (630 में से 311 सीटें)

इतिहास: दूसरे विश्व युद्ध के बाद पश्चिमी जर्मनी में सीडीयू का गठन हुआ था ताकि जर्मनी के सभी ईसाई रुढिवादी मतदाताओं को एक बैनर तले जमा किया जा सके. युद्ध के बाद पश्चिमी जर्मनी में यह सबसे महत्वपूर्ण राजनीतिक पार्टी बन गयी और 67 सालों में से 47 साल सत्ता सीडीयू और बवेरिया में उसकी सहोदर पार्टी क्रिश्चियन सोशल यूनियन (सीएसयू) के हाथ में रही.

जर्मनी को खड़ा करने में सीडीयू पार्टी की तरफ से चांसलर कोनराड आडेनावर का बहुत बड़ा योगदान है. वह 1949 से 1963 तक चांसलर पद पर रहे. यह आडेनावर और उनके अर्थ नीति मंत्री (जो बाद में चांसलर के तौर पर उनके उत्तराधिकारी बने) लुडविष एरहार्ड ही थे जिन्होंने जर्मनी के "आर्थिक चमत्कार" को साकार किया. जर्मन स्थिरता की चट्टान के रूप में पार्टी की छवि लंबे समय तक चांसलर रहे सीडीयू के हेलमुट कोल के दौर में भी जारी रही. कोल के रहते ही 1990 में जर्मनी का एकीकरण हुआ और यह घटना जर्मन लोगों के लिए राष्ट्रीय एकीकरण का दूसरा पल था.

मंच: पार्टी प्रमुख अंगेला मैर्केल सीडीयू के कुछ पारंपरिक मूल्यों पर कायम हैं जबकि कुछ से दूर जाती दिखती हैं. जर्मन मतदाताओं को भरोसा है कि अपने वित्त मंत्री वोल्फगांग शौएब्ले के साथ मिलकर वह अर्थव्यवस्था को कामयाबी से आगे ले जायेंगी. वहीं समलैंगिक शादियों पर उनका विरोध बना हुआ है. लेकिन प्रवासियों के मुद्दे पर उनका नरम रुख सीडीयू पार्टी में ज्यादा पसंद नहीं किया जाता.

पसंद के गठबंधन सहयोगी: एफडीपी, एसपीडी, संभवत: ग्रीन

----------------

सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी (एसपीडी)

रंग: लाल

अध्यक्ष: मार्टिन शुल्त्स

चांसलर पद के उम्मीदवार: मार्टिन शुल्त्स

2103 के आम चुनाव के परिणाम:25.7 प्रतिशत वोट (630 में से 193 सीटें)

सदस्यों की संख्या: 440,000

मतदाता: एसपीडी पारंपरिक तौर पर कामगार तबके और ट्रेड यूनियनों में शामिल लोगों की पार्टी रही है. एसपीडी का सबसे ज्यादा जनाधार पश्चिमी जर्मनी के सघन आबादी वाले औद्योगिक इलाके हैं जिनमें नॉर्थ राइन वेस्टफेलिया में रुअर का इलाका, हेसे और लोवर सेक्सनी शामिल हैं.

इतिहास : एसपीडी जर्मनी की सबसे पुरानी पार्टी है जिसका गठन 1875 में हुआ था. बीसवीं सदी के उथल पुथल से भरे पहले दशक में एसपीडी बहुत सारे वामपंथी आंदोलनों, ट्रेड यूनियनों से जुड़े लोगों और कम्युनिटों को एक साथ लाने वाला संगठन बन गयी. लेकिन 1919 में कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ जर्मनी (केपीडी) के गठन के साथ ही एसपीडी स्थायी रूप से क्रांतिकारियों की बजाय सुधारवादियों की पार्टी बन गयी. इसके बावजूद इसके नेताओं को तृतीय राइष के दौर में यातना शिविरों में भेजा गया था.

विली ब्रांट एसपीडी की तरफ से पहले चांसलर थे. निधन के बावजूद वह आज भी पार्टी के मानद चेयरमैन हैं. वह 1969 से 1974 तक चांसलर रहे. इससे पहले वह सीडीयू के साथ गठबंधन सरकार में विदेश मंत्री थे और युद्ध के बाद पूर्वी यूरोप के साथ मेलजोल बढ़ाने के उनके प्रयासों को दुनिया भर में सराहना और प्रतिष्ठा मिली. बतौर चांसलर एसपीडी के ही हेल्मुट श्मिट उनके उत्तराधिकारी बने. इन दोनों नेताओं को आज भी जर्मनी की राजनीति में बहुत सम्मान से देखा जाता है. कुल मिलाकर पार्टी 67 में से 34 साल तक सरकारों का हिस्सा रही है जबकि 21 वर्ष तक उसने गठबंधन सरकारों का नेतृत्व किया है.

मंच: एसपीडी का सबसे मजबूत पक्ष उसकी सामाजिक नीति रही है जो मजबूत सामाजिक ढांचे की वकालत करती है. हालांकि साथ ही पार्टी प्रतिबंध आधारित बेरोजगारी लाभों में भी विश्वास करती है. एसपीडी की पहल पर ही 2015 में जर्मनी में राष्ट्रीय न्यूनतम पारिश्रमिक व्यवस्था को लागू किया गया था, जो अभी प्रति घंटा 8.84 यूरो (9.40 डॉलर) है. बावजूद इसके, एसपीडी चांसलर गेरहार्ड श्रोएडर ने 2000 के दशक की शुरुआत में श्रम बाजार सुधारों के लिए जो एजेंडा 2010 पेश किया था, उसकी वजह से पार्टी को अपना कुछ पारंपरिक जनाधार गंवाना पड़ा. ऐसे में, मार्टिन शुल्त्स पर इस नीति में सुधार का दबाव है और अब पार्टी का जोर सामाजिक न्याय और आय के पुनर्वितरण पर है.

पसंद के गठबंधन सहयोगी: ग्रीन, सीडीयू, संभवत: वामपंथी पार्टी

------------

वामपंथी पार्टी (डी लिंके)

रंग: लाल (चुनाव अभियानों में पार्टी ज्यादातर मजेंटा रंग इस्तेमाल करती है ताकि एसपीडी से अलग दिख सके)

अध्यक्ष: कात्या किपिंग, बैर्न्ड रिक्सिंगर

उम्मीदवार: जारा वागेनक्नेष्ट, डीटमार बार्च

2103 के आम चुनाव के परिणाम: 8.6 प्रतिशत वोट (630 में से 64 सीटें)

सदस्यों की संख्या: 60,000

मतदाता: वामपंथी पार्टी का गढ़ निश्चित तौर पर पूर्ववर्ती पूर्वी जर्मनी के "नये जर्मन राज्य" हैं (जहां राज्य विधानसभाओं में उसका अच्छा खासा प्रतिनिधित्व है). पार्टी के मतदाताओं में वे उम्रदराज लोग शामिल हैं जो जीडीआर का समर्थन करते थे. वहीं देश के पश्चिमी हिस्से में पार्टी को ऐसे युवा प्रतिरोधी मतदाताओं का समर्थन मिलता है जो पारंपरिक पार्टियों को लेकर अपना असंतोष जाहिर करना चाहते हैं. अगर सर्वेक्षणों की मानें तो बीते दो साल में ऐसे ज्यादातर मतदाता धुर दक्षिणपंथी पार्टी एएफडी की तरफ चले गये हैं.

इतिहास: जर्मनी में डी लिंके पार्टी का गठन तो 2007 में हुआ लेकिन इसका इतिहास इससे कहीं पुराना है. इसे अभी तक उस सोशलिस्ट यूनिटी पार्टी (एसईडी) का वंशज माना जाता है जिसने 1990 में एकीकरण होने तक पूर्वी जर्मनी जीडीआर पर राज किया था. डी लिंके पार्टी का गठन एसईडी की उत्तराधिकारी पार्टी ऑफ डेमोक्रेटिक सोशलिज्म (पीडीएस) और लेबर एंड सोशल जस्टिस - द इलेक्ट्रोरल अल्टनेटिव (डब्ल्यूएसएसजी) के विलय के तौर पर हुआ था. डब्ल्यूएसएसजी पश्चिमी जर्मनी में ट्रेड यूनियनों से जुड़े लोगों और कल्याणकारी योजनाओं में कटौती के चांसलर गेरहार्ड श्रोएडर के फैसले से नाराज एसपीडी कार्यकर्ताओं का एक आंदोलन था. इन लोगों में श्रोएडर के पहले वित्त मंत्री और एसपीडी के चेयरमैन ऑस्कर लाफोन्टेन भी शामिल थे, जिन्होंने बाद में डी लिंके का नेतृत्व किया और अब भी पार्टी में एक अहम नेता बने हुए हैं.

चूंकि पूर्व जर्मनी की तानाशाही से इस पार्टी का संबंध रहा है, इसलिए मुख्यधारा की पार्टियों के लिए वह लगभग एक अछूत की तरह है. इसीलिए डी लिंके कभी संघीय सरकार का हिस्सा नहीं बनी है, हालांकि राज्य के स्तर पर पार्टी को सरकार चलाने का अच्छा खासा अनुभव है.

मंच: जर्मन संसद बुंडेस्टाग में डी लिंके अभी सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी है. यह जर्मनी की अकेली बड़ी पार्टी है जो विदेशों में सैन्य अभियानों का विरोध करती है. पार्टी नाटो को भंग करने की मांग भी करती है, प्रति घंटा न्यूनतम पारिश्रमिक को बढ़ाकर 10 यूरो (10.6 डॉलर) करने के हक में है जो अभी 8.84 यूरो है. कुछ राजनीति विज्ञानी अब भी डी लिंके को एक कट्टरपंथी पार्टी मानते हैं जिसका अंतिम लक्ष्य पूंजीवादी आर्थिक व्यवस्था को खत्म करना है, लेकिन पार्टी खुद कड़े बाजार नियमन, किराये की ऊपरी सीमा तय करने और ज्यादा सामाजिक निवेश की वकालत करती है.

पसंद के गठबंधन सहयोगी: एसपीडी, ग्रीन

---------

ग्रीन पार्टी (एलायंस 90/द ग्रीन)

रंग: हरा

अध्यक्ष: चेम ओएज्देमीर, जिमोने पेटर

2103 के आम चुनाव के परिणाम:8.4 प्रतिशत वोट (630 में से 63 सीटें)

सदस्यों की संख्या: 60,000

मतदाता: ग्रीन पार्टी समर्थन के लिए मुख्यतः पढ़े लिखे और शहरी वर्ग के लोगों पर निर्भर है. इसका मुख्य जनाधार पश्चिमी जर्मनी के बड़े शहरों में है, खासकर जहां यूनिवर्सिटियां हैं. लेकिन पार्टी के बीते 30 साल के इतिहास के दौरान इसके मतदाताओं की उम्र भी बढ़ी है. अब ग्रीन पार्टी के मतदाताओं में 35 साल से कम उम्र के लोगों की संख्या 10 प्रतिशत से भी कम है. इन सालों में ग्रीन पार्टी के वोटर भी पहले से ज्यादा समृद्ध हो गये हैं और पार्टी कामगार तबके के लोगों को लुभाने के लिए संघर्ष कर रही है.

इतिहास: ग्रीन पार्टी दूसरे विश्व युद्ध के बाद जर्मन राजनीति में शायद सबसे सफल काउंटर-कल्चर आंदोलन रहा है. पार्टी का आधिकारिक नाम एलायंस'90/द ग्रीन है और यह 1980 के दशक के सामाजिक विरोध आंदोलनों में शामिल कई संगठनों के साथ आने से जन्मी है. इन आंदोलनों में परमाणु ऊर्जा को खत्म करने से लेकर समलैंगिक अधिकारों और निश्चित तौर पर पर्यापरण संरक्षण तक, हर मुद्दे के लिए मार्च निकाले गये थे. 1993 में एलायंस का आधिकारिक तौर पर गठन होने के बाद ये मुद्दे मुख्यधारा की राजनीति में शामिल हुए और यह इससे जुड़े लोगों की कामयाबी है. (जहां तक बात ग्रीन पार्टी के गठन की है तो वह 1980 में हुआ था.)

पार्टी को सबसे अहम कामयाबी 2000 के दशक के शुरुआत में उस समय मिली जब वह एसपीडी के गेरहार्ड श्रोएडर के नेतृत्व में बनी संघीय सरकार में गठबंधन के जूनियर पार्टनर के तौर पर शामिल हुई. पार्टी के खाते में कैबिनेट के कई मंत्री पद आये जिनमें योश्का फिशर को विदेश मंत्री बनाना भी शामिल था. पार्टी को सबसे बड़ी चुनावी कामयाबी 2009 के चुनावों में मिली जब उसने राष्ट्रीय स्तर पर 10 प्रतिशत वोट हासिल किये, लेकिन पार्टी फिर कभी इतना समर्थन नहीं पा सकी.

मंच: राजनीतिक पंडित ग्रीन पार्टी के नेताओं को दो हिस्सों में बांटते हैं. पहले "फुंडीज" यानी जिन्हें पार्टी के मौलिक सिद्धांतों से कोई समझौता मंजूर नहीं है और दूसरे "रियलिस्ट", जो सरकार में हिस्सेदारी हासिल करने के लिए समझौता के लिए तैयार दिखते हैं. "रियलिस्ट" लोगों ने अब धीरे धीरे पार्टी पर नियंत्रण कर लिया है और इसी का नतीजा है कि ग्रीन पार्टी जर्मनी के दक्षिणी राज्य बाडेन वुर्टेमबर्ग में रुढ़िवादी सीडीयू के साथ मिलकर सरकार चला रही है. (कभी कभी इसे संघीय सरकार की रुपरेखा भी कहा जाता है). चूंकि पर्यावरण की सुरक्षा पार्टी के लिए मुख्य मुद्दा बना हुआ है (2000 के दशक की शुरुआत में कृषि सुधार उसकी मुख्य उपलब्धि रहे), लेकिन पार्टी टैक्स और सामाजिक नीति पर वामपंथी एजेंडे को आगे बढ़ा रही है. हालांकि पिछले चुनाव में कामयाबी न मिलने और इस बार सीडीयू के साथ गठबंधन की संभावनाओं को देखते हुए पार्टी अधिक मध्यमार्गी सोच को अपना सकती है. 

पसंद के गठबंधन सहयोगी: एसपीडी

--------------------

अल्टरनेटिव फॉर जर्मनी (एएफडी)

रंग: हल्का नीला

अध्यक्ष: फ्राउके पेट्री, योर्ग म्यूथेन

उम्मीदवार: अभी तय नहीं (tbd)

सदस्यों की संख्या: 27,000

मतदाता: एएफडी ने ग्रीन को छोड़ कर सभी बड़ी पार्टियों के छिटके कार्यकर्ताओं को अपनी तरफ आकर्षित किया है. साथ ही उसने ऐसे लोगों का समर्थन भी जीता था जो अब से पहले राजनीति में दिलचस्पी नहीं रखते थे. कम शिक्षा और कम आय वाले लोगों के बीच एएफडी पार्टी को अच्छा खासा समर्थन प्राप्त है, हालांकि इस समूह के बीच समर्थन रखने वाली वह अकेली पार्टी नहीं है. इसके सदस्यों में एक खास बात यह है कि उनमें महिलाएं सिर्फ 15 प्रतिशत ही हैं.

2103 के आम चुनाव के परिणाम :4.7 प्रतिशत वोट (630 में से 00 सीटें)

इतिहास: यह धुर दक्षिणपंथी पार्टी अपने गठन के चार साल के भीतर ही सबका ध्यान खींचने में कामयाब रही है. 2013 के आम चुनाव से ठीक पांच महीने पहले यह पार्टी बनी और वह जर्मन संसद में पहुंचने के बहुत करीब पहुंच गयी थी. तब से कई राज्य विधानसभाओं और यूरोपीय संसद में उसके प्रतिनिधि पहुंचे हैं. हालांकि पार्टी की लोकप्रियता हाल के दिनों में गिरी है. यह लेख लिखे जाने तक सर्वेक्षणों में उसे 9 प्रतिशत लोगों का समर्थन बताया गया.

एएफडी का गठन मूल रूप से साझा मुद्रा यूरो के आलोचक एक अकादमिक समूह ने किया था. ये लोग खासकर यूरोप के वित्तीय संकट के बाद 2010 में ग्रीस की मदद करने के अंगेला मैर्केल के फैसले से नाराज थे. 2015 में पार्टी सत्ता संघर्ष का शिकार भी रही जिसका समापन बेर्न्ड लुके की जगह फ्राउके पेट्री को नेतृत्व सौंप कर हुआ. पेट्री ने अन्य नेताओं के साथ मिल कर धुर राष्ट्रवादी, प्रवासी विरोधी और इस्लाम विरोधी एजेंडे को सामने रखा है जिससे 2015 के प्रवासी संकट के दौरान पार्टी को फायदा भी हुआ.

2016 में एएफडी जर्मनी की अकेली ऐसी पार्टी थी जिसने अमेरिका में डॉनल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति चुने जाने और ब्रिटेन के यूरोपीय संघ छोड़ने के फैसला का स्वागत किया था

मंच: एएफडी पार्टी यूरोपीय संघ के बॉर्डर सील करना चाहती है और जर्मनी की राष्ट्रीय सीमाओं पर पहचान की सख्त व्यवस्था लागू करने के हक में है. पार्टी विदेशों में ऐसे कैंप बनाने की वकालत भी करती है ताकि जर्मनी आने वाले प्रवासियों को वहीं रोका जा सके. पार्टी चाहती है कि जिस व्यक्ति की राजनीतिक शरण की अर्जी खारिज हो चुकी है उसे तुरंत वापस भेज दिया जाए और विदेशियों को अपने देश लौटने के लिए वित्तीय रूप से प्रोत्साहित किया जाये. एएफडी पारंपरिक जर्मन संस्कृति पर जोर देती है और इस्लाम को जर्मन समाज का हिस्सा बनाने के विचार को खारिज करती है. पार्टी इस धारणा पर भी सवाल उठाती है कि जलवायु परिवर्तन इंसान की पैदा की गई समस्या है और इसीलिए वह जर्मनी के अक्षय ऊर्जा संसाधनों की तरफ जाने का भी विरोध करती है.

पसंद के गठबंधन सहयोगी: कोई भी पार्टी एएफडी से गठबंधन नहीं करना चाहती, हालांकि नीतियों में कुछ हद तक वह सीडीयू के करीब है.

-----------------------

फ्री डेमोक्रेटिक पार्टी (एफडीपी)

रंग: पीला

अध्यक्ष: क्रिस्टियान लिंडनर

2103 के आम चुनाव के परिणाम:4.8 प्रतिशत वोट (630 में से 00 सीटें)

सदस्यों की संख्या: 54,000

मतदाता: एफडीपी को कारोबारी तबके की पार्टी समझा जाता है. इसलिए उसके वोटरों में सेल्फ-इम्प्लॉयड लोग सबसे ज्यादा शामिल हैं जिनमें खासकर बिजनेसमैन, डेंटिस्ट, वकील और कुछ कामगार भी शामिल हैं.

इतिहास: 1949 में जर्मनी के संघीय गणराज्य बनने के बाद से ही फ्री डेमोक्रैट्स का लगातार संसद में प्रतिनिधित्व रहा है. लेकिन फ्री-इंटरप्राइज समर्थक एफडीपी का समर्थन 2013 में पांच प्रतिशत से नीचे खिसक गया और तभी से पार्टी खुद को प्रासंगिक बनाने के लिए जूझ रही है.

एफडीपी का गठन 1948 में हुआ और यह पार्टी समय समय पर सीडीयू और एसपीडी के लिए किंगमेकर की भूमिका अदा करती रही है. लगभग 41 सालों तक एफडीपी संघीय सरकारों का हिस्सा रही है. हालांकि वह हमेशा सत्ताधारी गठबंधन में जूनियर पार्टनर की हैसियत से शामिल रही है, लेकिन कैबिनेट के अहम मंत्री पदों पर उसके सदस्य रहे हैं. इसमें हेल्मुट कोल के लंबे समय तक विदेश मंत्री रहे हंस डीटरिष गेंशर शामिल हैं जो दूसरे विश्व युद्ध के बाद जर्मनी के बड़े राजनेताओं में गिने जाते हैं.

मंच: एफडीपी का पार्टी कार्यक्रम व्यक्तिगत स्वतंत्रता और नागरिक अधिकारों पर आधारित है. हालांकि पार्टी का जोर हमेशा टैक्स में कटौतियों पर रहा है, लेकिन वह वित्तीय बाजार को निरंकुश छोड़ने के भी खिलाफ है. यह पार्टी यूरोपीय संघ की मजबूत समर्थक है और उसका सबसे ताजा घोषणापत्र भी यूरोपीय संघ के भीतर और अधिक नजदीकी संबंधों की वकालत करता है.

पंसद के गठबंधन सहयोगी: सीडीयू

संबंधित सामग्री