1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

जानलेवा है अति आराम

दोपहिया या कार से दफ्तर जाना, वहां कई घंटे बैठे रहना, फिर घर लौटना और सोफे पर बैठकर टीवी और फिर खाना खाकर सो जाना. अगर आपकी दिनचर्या ऐसी है सावधान हो जाइये, मौत बड़ी तेजी से आपका पीछा कर रही है.

तीन लाख लोगों पर 12 साल तक की गई रिसर्च के बाद वैज्ञानिकों ने यह दावा किया है कि बेहद आराम तलब दिनचर्या मोटापे से भी ज्यादा घातक है. कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के रिसर्चरों के मुताबिक यूरोप में हर साल 6,76,000 लोग आराम तलब दिनचर्या से होने वाली बीमारियों से मरते हैं. इसके उलट मोटापे की वजह से साल में 3,37,000 लोग जान गंवाते हैं.

शोध पत्र अमेरिकन जरनल ऑफ क्लीनिकल न्यूट्रिशियन में छपा है. 12 साल तक की गई रिसर्च के दौरान शोधकर्ताओं ने तीन लाख लोगों की शारीरिक गतिविधियों और उनकी कमर की गोलाई का जायजा लिया. शोधकर्ताओं का दावा है कि अगर कोई व्यक्ति एक दिन में कम से कम 20 मिनट भी पैदल चले तो शरीर काफी हद तक सेहतमंद रहता है. यूरोपीय रिसर्चरों जैसा दावा केटी बोमैन ने भी किया है.

ऐसे ही शोध में लगी एक अमेरिकी वैज्ञानिक केटी बोमैन के मुताबिक हर दिन कम से कम 7,500 कदम पैदल चलना कई बीमारियों को दूर रखता है. केटी बोमैन ने दावा किया कि पैदल चलना स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद है, "पैदल चलना सुपरफूड है. यह इंसान की हलचल को बयान करता है." बोमैन के मुताबिक अगर लोग कसरत न भी करें लेकिन हर दिन आधा घंटा पैदल चलें तो सेहत काफी बेहतर रह सकती है.

लेकिन इन दिनों एक ट्रेंड जोरों पर है, वह है, लगातार बैठे रहना और फिर कुछ घंटे कसरत करना. केटी बोमैन कहती हैं, "10 घंटे बैठे रहने की भरपाई आप एक घंटा व्यायाम करके नहीं कर सकते." बेहतर है कि बीच बीच में ब्रेक लें और शारीरिक हलचल करें.

ओएसजे/एमजे (रॉयटर्स)

संबंधित सामग्री