1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

जानलेवा बनी गोलकी की किक

ऐसा कम सी सुनने को मिलता है कि खेल के दौरान लगी चोट के कारण किसी खिलाड़ी की जान चली जाए. लेकिन इंडोनेशिया में एक शीर्ष लीग के खिलाड़ी की चोट लगने से मौत हो गई.

इंडोनेशिया के एक फुटबॉल स्ट्राइकर की लीग मैच के दौरान लगी चोट मौत की वजह बन गई. अधिकारियों का कहना है कि हाल में एक मैच के दौरान गोलकीपर ने खिलाड़ी के पेट पर लात मार दी जिसके बाद उस खिलाड़ी की मौत हो गई. 27 वर्षीय अकली फैरूस की मौत से इंडोनेशियाई फुटबॉल की साख पर एक और सवालिया निशान लग गया है. हाल के सालों में इंडोनेशियाई फुटबॉल कई समस्याओं से जूझता दिखा. इंडोनेशिया में फुटबॉल संघ के नेतृत्व से लेकर विदेशी खिलाड़ियों को पैसे देने तक के मामले उठ चुके हैं.

इंडोनेशियाई फुटबॉल संघ के महफुदीन निगारा के मुताबिक 10 मई को बंदा अचेह में एक मुकाबले के दौरान फैरूस को गंभीर चोट लग गई. मैच के वीडिया फुटेज में दिखाया गया कि परसीराजा बंदा अचेह टीम के खिलाड़ी फैरूस गोलकीपर से टकराकर लौटे फुटबॉल को दोबारा गोलपोस्ट की तरफ किक करने की कोशिश कर रहे थे तभी पीएसएपी सिगली के गोलकी ने उनके पेट पर लात मार दी.

पेट पर लात लगने के कारण फैरूस मैदान पर ही गिर गए. उनकी जगह तुरंत दूसरे खिलाड़ी को ग्राउंड पर भेज दिया गया. फैरूस मैदान के बाहर बैठकर मैच देखते रहे. निगारा के मुताबिक जब फैरूस की तबीयत बिगड़ने लगी तब जाकर उन्हें अस्पताल पहुंचाया गया.

निगारा के मुताबिक, "गोलकीपर की लात के कारण उनकी आंत फट गई और मौत हो गई. लेकिन हमें संदेह है कि मैदान में उनका इलाज बहुत धीमा रहा." निगारा का कहना है कि फुटबॉल संघ ने मामले की जांच के लिए एक टीम का गठन किया है. परसीराजा बंदा अचेह और पीएसएपी सिगली टीमें इंडोनेशिया की लिगा डिवीजन में खेलती हैं. इससे पहले इंडोनेशियाई क्लबों के लिए खेलने वाले दो खिलाड़ियों की मौत हो चुकी है. दोनों खिलाड़ियों को कई महीने तक बकाया पैसे नहीं दिए गए थे जिसके कारण वे अपना इलाज नहीं करा पाए.

एए/एजेए (एएफपी)

संबंधित सामग्री