1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

जानबूझ कर छिपाया गया यौन शोषण

जर्मनी के कैथोलिक चर्च ने यौन शोषण के मामलों को ढकने के लिए योजनाबद्ध तरीके से काम किया. इस वजह से दशकों तक ऐसे मामले सामने नहीं आ पाए. म्यूनिख और फ्राइजिंग के आर्कडियोसीस के अध्ययन में काफी बातें सामने आई हैं.

default

आर्कडियोसीस ने इस अध्ययन के लिए वकील मारियोन वेस्टफाल को नियुक्त किया था. वेस्टफाल ने बताया कि 1945 और 2009 के बीच रिकॉर्डों में काफी हेरफेर हुआ है. उन्होंने कहा कि मामलों को ढकने के लिए योजनाबद्ध तरीके से काम किया गया. इसलिए कुछ मामलों में आपराधिक मुकदमे भी चलाए गए. वेस्टफाल ने कहा, "सिर्फ 26 पादरियों को यौन अपराधों के लिए सजा हुई. हमें मानना होगा कि यौन शोषण के मामलों की एक बड़ी तादाद छिपी रही. बड़ी संख्या में फाइलें नष्ट की गईं."

Großbritannien Vatikan Papst Benedikt XVI in Edinburgh

पोप बेनेडिक्ट 16वें

वेस्टफाल ने बताया कि 1977 से 1982 के बीच के काफी रिकॉर्ड गायब हैं. तब आर्कडियोसीस के आर्कबिशप जोसेफ रात्सिंगर थे. यही अब पोप बेनेडिक्ट 16वें हैं.

इस दौरान का वेस्टफाल को सिर्फ एक दस्तावेज मिला है. वेस्टफाल बताती हैं कि यह भी एक यौन शोषण का मामला था जिससे रात्सिंगर खुद निबटे थे. इस फाइल में उनका लिखा एक पत्र है जिसमें आरोपी पादरी को पद से हटाने की बात कही गई है.

वेस्टफाल ने बताया कि चर्च के कर्मचारियों ने जानबूझकर रिकॉर्ड नष्ट कर दिए क्योंकि उनकी प्राथमिकता किसी कांड को खड़ा होने से बचाना थी न कि पीड़ितों की रक्षा करना. इस अध्ययन में 13,200 फाइलों को पढ़ा गया. इनमें से 365 फाइलों में सबूत मिले कि यौन शोषण के मामले बहुत ही आम बातों की तरह हुए. इन मामलों में 159 पादरी, 15 उपपादरी, 96 धार्मिक अध्यापक और छह कर्मचारी शामिल हैं. सबसे ज्यादा असर ग्रामीण इलाकों में हुआ.

वेस्टफाल बताती हैं कि कुछ फाइलों को निजी अपार्टमेंट में छिपाकर रखा गया. काफी फाइलों को ऐसी जगह तालाबंद रखा गया जहां बहुत कम लोगों की पहुंच है. नियम बनाकर इन फाइलों में अपराधिक सजाओं का जिक्र नहीं किया गया है. कुछ मामलों में तो पीड़ित का भी जिक्र नहीं है.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ए कुमार

DW.COM

WWW-Links