1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

जाधव की मां को नहीं मिला वीजा, सुषमा स्वराज नाराज

जासूसी के आरोप में पाकिस्तानी जेल में कैद भारतीय कुलभूषण जाधव की मां को पाकिस्तान का वीजा न मिलने और उस बाबत लिखी अपनी चिट्ठी का जवाब तक ना पाने पर भारतीय विदेश मंत्री ने ट्विटर पर जताया है रोष.

भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान की जेल में रखे गये सेवानिवृत्त भारतीय नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव की मां को पाकिस्तान का वीजा न मिलने पर ट्वीट किया कि ''मैंने सरताज अजीज को कुलभूषण जाधव की मां को वीजा जारी करने को लेकर एक पत्र लिखा था लेकिन उन्होंने उस पत्र पर कोई संज्ञान नहीं लिया."

जाधव की मां ने अपने बेटे से मिलने के लिए पाकिस्तान के वीजा का आवेदन किया था. भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इसके लिए व्यक्तिगत रूप से अनुशंसा पत्र भी लिखा था लेकिन उस पर भी पाकिस्तान ने कोई संज्ञान नहीं लिया. जवाब न मिलने के अलावा पाकिस्तान ने उस पत्र से संबंधित कोई पावती भी भारत तक नहीं पहुंचायी कि उन्हें विदेश मंत्री का पत्र प्राप्त हुआ है. 

जाधव को पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने जासूसी के आरोप में फांसी की सजा सुनायी है. पाकिस्तान जाधव को जासूस बताता है, वहीं भारत का कहना है कि जाधव का ईरान से अपहरण कर उन्हें फंसाया गया है. जाधव लगभग एक साल से पाकिस्तान की जेल में कैद रखे गये हैं.

स्वराज ने जाधव मामले पर ट्वीट में लिखा, ''भारतीय नागरिक अवंतिका जाधव का वीजा आवेदन भी लंबित है. वह पाकिस्तान में अपने बेटे को मिलना चाहती हैं, जिसे पाकिस्तान ने फांसी की सजा सुनायी है."

हाल के सालों में ऐसे कई मामले सामने आये हैं जब पाकिस्तानी नागरिकों ने भारत का मेडिकल वीजा पाने के लिए ट्विटर पर भारतीय विदेश मंत्री को ट्विटर पर टैग कर मदद मांगी. इस पर सुषमा स्वराज ने प्रतिक्रियाएं भी दीं और अपने ट्वीट में लिखा कि, ''भारत में इलाज कराने के लिए मेडिकल वीजा के जरूरतमंद सभी पाकिस्तानी नागरिकों से मुझे सहानुभूति है.''

उन्होंने भारत का पक्ष साफ करते हुए लिखा, ''हमें मेडिकल वीजा जारी करने के लिए सिर्फ एक अनुशंसा पत्र की आवश्यकता है.'' उन्होंने पाकिस्तानी विदेश मंत्री पर तंज कसते हुए लिखा कि, ''मैं समझ नहीं पा रही हूं कि अपने ही देश के नागरिकों के मेडिकल वीजा के लिए अपनी अनुशंसा देने में सरताज अजीज हिचक क्यों दिखा रहे हैं.'' 

मुंह के एक गंभीर टयूमर से ग्रस्त पाकिस्तानी नागरिक फैजा तनवीर ने इलाज के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मदद मांगी थी. तनवीर इलाज के लिए गाजियाबाद स्थित इंद्रप्रस्थ डेंटल कॉलेज और अस्पताल आना चाहती हैं. इलाज के लिए वह एडवांस में 10 लाख रुपये भी दे चुकी हैं. इसके अलावा पाकिस्तान के सईद अयूब ने भी सुषमा स्वराज को टैग करते हुए लिखा था कि मैं अपने पिता का भारत में लिवर ट्रांसप्लांट करवाना चाहता हूं. मैंने आधी से ज्यादा संपत्ति भी बेच दी है, लेकिन हमें मेडिकल वीजा नहीं मिल रहा है.

शोभा शमी

 

DW.COM

संबंधित सामग्री