1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

जहां गांधीजी को शाकाहार की प्रेरणा मिली

ब्रिटेन की वेस्टमिनस्टर यूनिवर्सिटी में इंडिया मीडिया सेंटर ने एक अभियान शुरू किया है. इस क्रेंद्र का कहना है कि लंदन में उस रेस्टोरेंट के बाहर एक नीला बोर्ड लगाया जाए जहां महात्मा गांधी को शाकाहार की प्रेरणा मिली.

default

वो रेस्टोरेंट जहां गांधीजी ने शाकाहारी बनने की कसम खाई थी वहां अब कोई रेस्टोरेंट नहीं है लेकिन इंडिया मीडिया सेंटर की मांग है कि इस जगह पर एक नीले रंग का बोर्ड लगाया जाए ताकि लोगों को पता लग सके.

16. सेंट ब्राइड्स स्ट्रीट लंदन ईसी 4 वो जगह है जहां गांधीजी ने पहली बार शाकाहार के लिए प्रतिबद्ध होना तय किया. ये फैसला उन्होंने एचएस सॉल्ट की ए प्ली फॉर वेजिटेरियेनिजम यानि शाकाहार के लिए एक अपील पढ़ने के बाद किया. गांधीजी ने कहा है कि इस किताब के कारण शाकाहार से बहुत प्रभावित हुए.

ये जानकारी तब सामने आई जब 1891 में गांधी जी

Flash-Galerie Paprika

शाकाहारी बनने की प्रेरणा

वेजिटेरियन सोसायटी में बातचीत वेस्टमिनस्टर के शोधार्थियों ने पढ़ी जिसमें साफ जाहिर होता है कि गांधीजी शाकाहार से कितने प्रभावित थे. शोधार्थी चाहते हैं कि लंदन शहर कॉर्पोरेशन उस इमारत के बाहर एक बोर्ड लगाएं.

विक्टोरियन काल में लंदन का ये रेस्टोरेंट शाकाहार का मुख्य केंद्र था और यहां उस समय के काफी मशहूर लोग आया करते थे जिनमें नाटककार जॉर्ज बर्नार्ड शॉ भी आते थे.

इंडिया मीडिया सेंटर के प्रवक्ता ने कहा, "अगर यहां किसी तरह का बोर्ड नहीं लगा होगा तो लोगों को इसके महत्व के बारे में कुछ भी पता नहीं चलेगा. वे नहीं जान सकेंगे कि यहां कितने बड़े बड़े लोग खाना खाने आते थे."

लंदन के नीले बोर्ड्स इंग्लिश हेरिटेज वाले बोर्ड से अलग हैं. ये बोर्ड चौकोर और गहरे नीले हैं जबकि हेरिटेज वाले बोर्ड अंडाकार हैं.

इंग्लैंड से जाते समय गांधी जी ने कहा था, "मुझे बहुत सारे लोगों ने अनावश्यक मुफ्त सलाह दी. उनका इरादा अच्छा था. उनमें से अधिकतर लोगों का कहना था कि इतने ठंडे मौसम में मैं बिना मीट के नहीं रह सकूंगा, मुझे टीबी हो जाएगा. दूसरों का कहना था कि मासांहार न भी लिया तो वाइन के बगैर तो मैं हिल भी नहीं सकूंगा. ठंड के कारण मैं सुन्न हो जाउंगा. जबकि एक ने तो सलाह दी कि मैं आठ बोतल विस्की ले जाऊं क्योंकि अदन की खाड़ी से आगे जाने के बाद मुझे उनकी जरूरत पड़ेगी."

वेस्टमिनस्टर की इस रिलीज में सामने आया कि गांधीजी ने कहा कि इंग्लैंड से हो कर गए डॉक्टरों ने भी मुझे इसी तरह की सलाह दी थी.

रिपोर्टः पीटीआई/आभा एम

संपादनः एम गोपालकृष्णन

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री