1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

जर्मन सेना के हाथों अफ़ग़ान सैनिकों की मौत

शुक्रवार को उत्तरी अफ़ग़ानिस्तान में हुई लड़ाई में तीन जर्मन सैनिकों की मौत के बाद पता चला है कि इस संघर्ष में जर्मन सैनिकों ने ग़लतफ़हमी के चलते पांच अफ़ग़ान सैनिकों को मार दिया है.

default

कुंदुस में जर्मन सेना

पोट्सडाम में अफ़ग़ान अभियान के मुख्यालय की सूचना के अनुसार शुक्रवार को शहर दारा में संघर्ष में लिप्त सैनिकों की मदद के लिए कुंदुस के बेस कैंप से जर्मन सैनिक रवाना हुए थे. रास्ते में दो असैनिक गाड़ियां उनकी ओर आ रहीं थीं. जब गाड़ियां नहीं रुकीं, तो टैंकों से एक गाड़ी पर गोले बरसाए गए. बाद में पता चला कि यह अफ़ग़ान राष्ट्रीय सेना की गाड़ी थी. इस हादसे में पांच अफ़ग़ान सैनिकों की मौत हो गई. पूरी घटना की अभी जांच चल रही है.

शुक्रवार को कुंदूज़ के निकट विद्रोहियों के साथ हुई गोलाबारी में तीन जर्मन सैनिक मारे गए थे. बारूदी सुरंगों को हटाने में लगे जर्मन सैनिकों पर लगभग 100 विद्रोहियों ने हमला किया था. बाद में हुई लड़ाई में बुंडेसवेयर की कई कंपनियों ने हिस्सा लिया. एक कंपनी में 150 सैनिक होते हैं. लड़ाई में आठ अन्य जर्मन सैनिक घायल हो गए. उनमें से कुछ को इलाज़ के लिए शनिवार को जर्मनी लाया जा रहा है.

जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल ने कायराना हमले की कड़ी निंदा की है. एक बयान में चांसलर ने कहा, "बड़ी निराशा के साथ मैंने अफ़ग़ानिस्तान में हमारे सैनिकों पर जघन्य और कायराना हमले की ख़बर सुनी है."

रक्षामंत्री कार्ल-थियोडोर सू गुटेनबर्ग दक्षिण अफ़्रीका में अपनी ईस्टर की छुट्टियों से

Guttenberg im Kundus

पिछली अफ़ग़ान यात्रा के दौरान गुटेनबैर्ग

फौरन वापस लौट रहे हैं. रक्षामंत्री ने एक लिखित बयान में कहा है, "गहरे शोक के साथ मैंने अफ़ग़ानिस्तान में सैनिक की मौत और घायल होने के बारे में सुना है. इस आयाम की लड़ाई से साफ़ है कि अफ़ग़ानिस्तान में आवश्यक तैनाती कितनी ख़तरनाक है."

विदेशमंत्री गीडो वेस्टरवेले ने मृत सैनिकों के परिजनों के साथ संवेदना व्यक्त की है. वेस्टरवेले ने एक बयान में हमले की निंदा करते हुए कहा है, "मैं इस कायराना हमले की निंदा करता हूं जो न सिर्फ़ जर्मन सैनिकों पर लक्षित था बल्कि समूची अफ़ग़ान जनता के ख़िलाफ़ भी."

सोशल डेमोक्रैटिक पार्टी के संसदीय दल के नेता फ़्रांक वाल्टर श्टाइनमायर ने भी जर्मन सैनिकों पर हमले की निंदा की है जबकि संसद में वामपंथी पार्टी डी लिंके ने अफ़ग़ानिस्तान से जर्मन सेना को फ़ौरन हटाने की मांग की है.

इस बीच जर्मन सैनिकों पर तालिबान के नए हमले के बाद जर्मन सेना बुंडेसवेयर के नेतृत्व ने उत्तरी अफ़ग़ानिस्तान में अपने सैनिक लक्ष्यों पर ज़ोर दिया है. प्रभारी कमांडर फ़्रांक लाइडेनबर्गर ने कहा है कि स्थिति पहले जैसी बनी हुई है. जर्मन सैनिक अफग़ान जनता की सुरक्षा करते रहेंगे.

रिपोर्ट: एजेंसियां/उभ

संपादन: सचिन गौड़

संबंधित सामग्री