1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

जर्मन संसद ने दी समलैंगिक विवाह को मंजूरी

जर्मन संसद में समलैंगिक शादियों को कानूनी मान्यता देने पर सहमति. ऐसे जोड़ों को सिविल पार्टनरशिप में रहने का अधिकार 2001 में ही मिल गया था.

शुक्रवार को जर्मन संसद बुंडेसटाग में हुई वोटिंग में समलैंगिक विवाह को वैधता देने के प्रस्ताव को बहुमत का समर्थन मिला है. सदन के 393 सांसदों ने इसके समर्थन में जबकि 226 सासंदों ने विरोध में वोट दिया. चार सांसद वोटिंग में शामिल नहीं हुए और "मैरिज फॉर ऑल" के प्रस्ताव पर खुद चांसलर अंगेला मैर्केल ने भी इसके खिलाफ अपना वोट डाला था. 

इसी हफ्ते चांसलर मैर्केल ने एक इंटरव्यू के दौरान समलैंगिक विवाह पर बयान दिया था, जिसके बाद से विपक्षी दलों ने ऐसा माहौल बना दिया कि मैर्केल को गर्मियों की छुट्टी से पहले ही संसद में इस पर वोटिंग कराने का फैसला लेना पड़ा. हालांकि वोटिंग से पहले उन्होंने कहा था कि पार्टी के सदस्य अपनी अंतरात्मा की आवाज पर मत दें और उन पर पार्टी का कोई व्हिप जारी नहीं होगा. 

चांसलर मैर्केल की पार्टी सीडीयू कंजर्वेटिव क्रिस्चियन मूल्यों वाली रही है जिसके लिए समलैंगिकता को मान्यता देना लीक से हट कर जाना समझा जाता. वहीं समलैंगिक शादियों को पूर्ण विवाह का दर्जा देने और ऐसे समलिंगी दंपतियों के बच्चों को गोद लेने देने के सवाल पर जर्मनी के नागरिक समूहों का काफी दबाव रहा है. जर्मनी के एलजीबीटी समूहों ने इस पर काफी उत्साह दिखाया है.

जर्मनी में समलैंगिक जोड़ों को सिविल पार्टनरशिप में रहने का अधिकार 2001 में ही मिल गया था, लेकिन उनकी शादी को कानूनी मान्यता नहीं थी. सितंबर में होने वाले आम चुनावों के पहले यह संसद का आखिरी सत्र था, जिसमें सासंदों ने प्रस्ताव को मान्यता दे दी है. अब जर्मन लीगल कोड में कहा जाएगा कि "दो अलग या समान लिंग वाले लोगों की जीवन भर के लिए शादी की संस्था में प्रवेश." 

आरपी/एमजे (डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री