1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

जर्मन ग्रां प्री अलोंजो के नाम, मासा दूसरे नंबर पर

स्पेन के फर्नान्डो अलोंजो ने जर्मन ग्रां प्री जीत ली है. फरारी के ड्राइवर अलोंजो पहले स्थान पर आए जबकि उनके साथी खिलाड़ी फिलिपे मासा को दूसरा स्थान मिला. फरारी की तरफ से मिले आदेश के बाद मासा ने अपनी बढ़त अलोंजो को दी.

default

फर्नान्डो अंलोजो

फार्मूला वन ड्राइवर स्पेन के अलोंजो की इस सीजन में यह दूसरी और करियर की 23वीं जीत है. रेस शुरू होने पर फरारी ने जो बढ़त हासिल की उसे आखिर तक बनाए रखा गया. फिलिपे मासा और फर्नान्डो अलोंजो ने पोल पोजीशन हासिल करने वाले जर्मनी के सेबास्टियान फेटल को पीछे छोड़ दिया. पहले और दूसरे स्थान पर रहे फरारी के ड्राइवर अलोंजो और मासा. जर्मन ग्रां प्री के इस नतीजे से रेड बुल के फेटल को निराशा हुई है. लेकिन अलोंजो की इस जीत पर थोड़ा विवाद भी है.

रेस के दौरान फिलिपे मासा आगे चल रहे थे और अलोंजो उनके पीछे. लेकिन फरारी टीम के इंजीनियर ने मासा को आदेश दिया जिसके बाद मासा पीछे हो गए और उन्होंने अपनी बढ़त अलोंजो को दे दी. फरारी के चीफ इंजीनियर रॉब स्मेडले ने टीम रेडियो पर मासा से कहा, "अलोंजो तुम से तेज चला रहा है. क्या तुम बता सकते है कि तुम इस बात को समझे या नहीं."

Sebastian Vettel Felipe Massa Fernando Alonso Deutschland

जिस वक्त मासा से टीम रेडियो पर बात हुई, रेस में 18 लैप बचे थे. जब ब्राजील के फिलिपे मासा ने अपनी बढ़त साथी खिलाड़ी अलोंजो को दे दी तो स्मेडले ने कहा, "शाबाश. अब ऐसे चलाते रहो. मुझे खेद है."

लेकिन मासा इस आदेश के चलते निराश नजर आए. रेस खत्म होने के बाद जब अलोंजो ने उन्हें गले लगाने का प्रयास किया तो वह थोड़ा खिंचे से नजर आ रहे थे. वहीं जर्मनी के प्रशंसकों को सेबास्टियान फेटल के प्रदर्शन से निराशा हुई. फेटल की शुरुआत खराब रही और फिर बढ़त पाने में वह नाकाम ही साबित हुए.

23 साल के जर्मन ड्राइवर फेटल को पोल पोजीशन से शुरुआत करने के बाद रेस अब भी जीतनी है. फेटल इस रेस में तीसरे स्थान पर रहे. उनके बाद मैक्लॉरेन के लुइस हेमिल्टन और जेनसन बटन रहे. ऑस्ट्रेलिया के मार्क वेबर छठे स्थान पर रहे जबकि पोलैंड के रॉबर्ट कुबिका सातवें स्थान पर आए. एक समय फार्मूला वन रेस के सरताज रहे जर्मनी के माइकल शूमाकर को नौवें स्थान पर ही संतोष करना पड़ा.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: ए कुमार