1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

फीडबैक

जर्मनी में शाह रूख मशहूर

हमें मुबारकपुर, आजमगढ़, उत्तर प्रदेश से बहुत से श्रोताओ से सवाल आते रहते हैं, जिनमें से कुछ एक के जवाब है....

default

सवाल आपके जवाब हमारे...

मासूमिया रेडियो लिस्नर्स क्लब से निजामुद्दीन जानना चाहते हैं:

प्रश्नः जर्मनी में सबसे अधिक प्रसिद्ध होने वाली भारतीय फिल्म का नाम क्या है ?

उत्तर: शाहरुख खान जर्मनी में बड़े मशहूर हैं. उनकी फिल्म "कभी खुशी कभी गम" जर्मनी में दिखाई गई जो लोगों को बड़ी पसंद आई. इसका यह असर हुआ कि शाहरूख खान एक लवर ब्वॉय के नाम से यहां प्रसिद्ध हैं. शाहरूख खान की ही नहीं, दूसरी फिल्में भी, जैसे आमिर खान की लगान, पिपली लाइव भी यहां दिखाई गई हैं, इन्हें भी जर्मन लोगों ने खूब पसंद किया लेकिन शाहरूख खान सबसे ऊपर हैं. कई हिंदी फिल्में जर्मन टीवी पर भी डब करके भी दिखाई जाती हैं.

प्रश्न : जर्मनी में फुटबाल खेल का इतिहास कितना पुराना हैं ?

उत्तर: जर्मनी में फ़ुटबाल खेल का इतिहास तो बड़ा पुराना है, लेकिन 1900 में पहली बार इसकी एक व्यवस्थित शुरुआत हुई. एक क्लब बनाया गया और 1908 से अंतराष्ट्रीय मुकाबले में जर्मनी ने खेलना शुरू किया.

***

मिस जूही , डीडब्ल्यू फोरम , से जानना चाहती हैं

प्रश्नः जर्मनी में आप्रवासियों कि कुल संख्या कितनी है ?

उत्तर: जर्मनी में 8 करोड़ बीस लाख लोग लोग रहते हैं जिनमे से लगभग चार करोड़ बीस लाख महिलाएं हैं. आप्रवासियों की संख्या 6 करोड़ 70 लाख है जो की कुल जनसंख्या का 8.2 प्रतिशत है.

***

दिलशाद हुसैन , पैगाम रेडियो लिस्नर्स क्लब , से जानना चाहते हैं

प्रश्नः जर्मनी के नोटों पर किसके हस्ताक्षर होते हैं ?

उत्तर: साल 2002 से यूरो मुद्रा का उपयोग किया जा रहा है. यूरो नोटों पर यूरोपीय सेंट्रल बैंक के हस्ताक्षर होते हैं. यह मुद्रा यूरोपीय सेंट्रल बैंक जारी करती है और इनका डिजाइन पूरे यूरोपीय संघ देशो में एक जैसा होता है, हालांकि वे विभिन्न सदस्य राज्यों में मुद्रित किये जाते हैं. जब जर्मनी की मुद्रा डॉयचे मार्क थी उस समय जर्मन मुद्रा नोटों पर डॉयचे बुंडेस बैंक के अध्यक्ष के हस्ताक्षर होते थे डॉयचे बुंडेस बैंक जर्मनी का एक केन्द्रीय बैंक है तथा बैंकों की यूरोपीय प्रणाली (ESCB) का एक हिस्सा भी है. डॉयचे बुंडेस बैंक और यूरोपियन सेंट्रल बैंक दोनों ही फ्रांकफुर्ट में स्थित हैं.

***

मिस गुरिया , डी डब्ल्यू टीम से पूछती है कि पोलैंड कि सीमा किन किन देशों से मिलती है ?

उत्तर: पोलैंड की सीमा उक्रेन, चेक रेपुब्लीक, स्लोवाकिया, जर्मनी, बेलारूस, रूस, और लिथुआनिया से मिलती है.

***

शमसुद्दीन साकी अदीबी , डी डब्ल्यू लिस्नर्स नेटवर्क पूछते हैं- जर्मनी के किस शहर में विदेशियों का सबसे अधिक आना जाना लगा रहता हैं ?
उत्तर: जर्मनी में बर्लिन सबसे बड़ा पर्यटन केंद्र है और यहां पर दुनिया भर से सैलानी घूमने आते हैं. फ्रैंकफुर्ट दुनियां के सबसे बड़े व्यापारिक केन्द्रों में से एक है जहां करोबारियों का आना जाना लगा रहता है और जर्मनी का अंतराष्ट्रीय हवाई अड्डा भी है. इसके अलावा और भी कई मुख्य शहर हैं जहां विदेशी अक्सर घूमने आते हैं, जैसे की म्यूनिख, क्लोन, ड्यूसेलडॉर्फ इत्यादि.

***

मिस फिजा , पवन रेडियो लिस्नर्स क्लब से जानना चाहती है: जर्मनी के किस शहर को आर्थिक नगरी माना जाता है ?
उत्तर: फ्रांकफुर्ट को जर्मनी की आर्थिक नगरी कह सकते हैं , जहां जर्मनी का बड़ा शेयर बाज़ार है और यह यूरोप का एक बड़ा व्यापारी केंद्र भी है.

प्रश्न: जर्मनी के किस शहर में सबसे अधिक अंतर्राष्ट्रीय मेलों का आयोजन किया जाता है ?
उत्तर: फ्रांकफुर्ट, हनोवर, म्युनिक, क्लोन, ड्यूसेलडॉर्फ कई बड़े बड़े शहर है जहां ऐसे मेले होते हैं. कोई एक शहर नहीं कह सकते, वरना एक ही शहर पर हर समय पूरा बोझ रहेगा. इसलिए यहां अलग अलग शहरों में इन मेलो को करने की परंपरा है.

***

डीडब्ल्यू अंतरा रेडियो लिस्नर्स क्लब कि मिस मंताशा पूछती हैं, जर्मनी में गर्मी कि छुटियां कितने दिनों की होती हैं और लोग अधिकांश छुटियां किस देश में बिताते हैं ?

उत्तर: जर्मनी में स्कूलों में गर्मी की छुटियां लगभग 6 सप्ताह की होती हैं. यह हर साल राज्य से राज्य अलग अलग तारीख पर होती हैं. लोगों को इतनी लम्बी छुट्टी का इंतजार रहता है. जर्मनी में यह परंपरा है कि छुट्टियों में लोग जरुर कहीं न कहीं जाते हैं. और यहां के लोग तो अक्सर उन स्थानों पर जाते हैं जहां गर्मी और समुद्र तट हो, जैसे स्पेन, इटली, ग्रीस.........

***

आईडियल शॉर्टवेव लिस्नर्स क्लब से कमरुद्दीन अंसारी का सवाल है क्या जर्मनी में भी कॉमनवेल्थ गेम्स जैसे खेल का आयोजन हो चुका है ?

उत्तर: जर्मनी कॉमनवेल्थ यानी राष्ट्रकुल देशों में नहीं आता. कॉमनवेल्थ में सिर्फ वहीं देश हैं जो किसी समय ब्रिटेन की कॉलोनी रहे हैं. जैसे कि भारत और ऑस्ट्रेलिया.

संकलनः विनोद चड्ढा

संपादनः आभा एम