1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

जर्मनी में भांग उगाने की इजाजत

इलाज के लिए जर्मनी में पहली बार किसी मरीज को मारिजुआना उगाने की मंजूरी दी गई है. हालांकि अदालत ने साफ कर दिया है कि ऐसे फैसलों में पहले पूरी जांच और सतर्कता बरती जाएगी.

जर्मन शहर कोलोन की एक प्रशासनिक अदालत के इस फैसले के मुताबिक भांग का सामान्य रूप से इस्तेमाल गैरकानूनी है लेकिन इलाज के लिए परमिट हासिल होने पर इसे घर में उगाया जा सकेगा. पांच मरीजों ने भांग उगाने की इजाजत मांगी थी, जिनमें से सिर्फ तीन को मंजूरी मिली. अदालत ने कहा है कि बाकी के दो मरीज ऊपरी अदालत में अपील कर सकते हैं.

अदालत की राय है कि इसे उगाने की परमिट देने से पहले हर मामले की पूरी तरह जांच होगी. मरीजों के लिए उगाई गई भांग किसी और को देना गैरकानूनी होगा.

गंभीर रूप से दर्द की शिकायत वाले पांच मरीजों ने अदालत में केस दायर कर जर्मनी के केंद्रीय चिकित्सा संस्थान से इलाज के लिए अपने घर पर भांग उगाने की इजाजत मांगी थी. हालांकि इन मरीजों को दर्द से निजात के लिए इससे बनी दवा खरीदने की छूट है. लेकिन बीमा कंपनियां इन बेहद महंगी दवाओं का खर्च नहीं उठाती हैं.

भांग के इस्तेमाल से दुनिया भर के कई देश प्रतिबंध हटा रहे हैं. कहीं सिर्फ इलाज के लिए तो नीदरलैंड्स और अमेरिका के कुछ राज्यों में मौज मस्ती के लिए इसका इस्तेमाल गैरकानूनी नहीं है. पिछले कुछ सालों में कैंसर, एचआईवी/एड्स, हेपेटाइटिस सी और पार्किंसंस के इलाज के लिए इसका इस्तेमाल काफी लोकप्रिय हो गया है. हाल में न्यूयॉर्क अमेरिका का 23वां राज्य बन गया है जहां इलाज के लिए भांग के इस्तेमाल को कानूनी दर्जा मिला.

भांग उगाने के कानून का विरोध करने वालों के मुताबिक इससे नशे की लत पड़ सकती है और इससे अपराध बढ़ने का भी खतरा है. कुछ की यह भी दलील है कि भांग के इस्तेमाल से मरीज की ज्यादा सख्त दवाओं पर निर्भरता हो सकती है.

एसएफ/एजेए (एएफपी)

DW.COM