1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

जर्मनी में परमाणु कचरे की ढुलाई का विरोध

परमाणु विरोधियों के भारी प्रदर्शन के बीच परमाणु कचरे को लेकर फ्रांस से आ रही ट्रेन जर्मनी से होकर गुजर रही है. परमाणु कचरे को लोवर सेक्सनी के गोरलेबेन ले जाया जा रहा है.

default

फ्रांस में परमाणु विरोधियों को छकाते हुए ट्रेन का रास्ता बदल दिया गया ताकि वो ट्रेन के सफर में बाधा न डाल सकें. शनिवार को 8 अतिसुरक्षित स्टील के कंटेनरों वाली ट्रेन ने विरोध प्रदर्शनों के बीच केल में फ्रांसीसी जर्मन सीमा पार की. उसी समय जर्मन प्रदेश लोवर सेक्सनी के डानेनबर्ग में दसियों हजार परमाणु विरोधियों ने जर्मन सरकार की परमाणु ऊर्जा नीति और परमाणु कचरे के परिवहन के विरोध में प्रदर्शन किया.

Flash-Galerie Atom Castor Prosteste

विरोध प्रदर्शन के आयोजक इसे 1995 के बाद सबसे बड़ा प्रदर्शन बता रहे हैं. उन्होंने 50 हजार लोगों के प्रदर्शन में शामिल होने का दावा किया है जबकि पुलिस इसे 10 हजार से कुछ अधिक बता रही है. आयोजकों का कहना है कि प्रदर्शनकारी 400 बसों में भरकर सारे देश से डानेनबर्ग पहुंचे हैं. इसके अलावा सैकड़ों किसान अपने अपने ट्रैक्टरों में सवार हो रैली में पहुंचे.

छिटपुट मामलों को छोड़कर शनिवार शाम तक पुलिस और परमाणु विरोधियों के बीच कोई झड़प नहीं हुई है. इसके बावजूद जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल ने प्रदर्शनकारियों को कानून न तोड़ने की चेतावनी दी है और परमाणु कचरे के लिए अंतिम गोदाम बनाने के अपनी सरकार के फैसले को उचित ठहराया है.

Flash-Galerie Castor Transport Deutschland Gorleben

फ्रांस के ला आग के परमाणु संयंत्र से परमाणु कचरा लेकर आ रही कास्टर ट्रेन लोवर सेक्सनी के गोरलेबेन की तरफ बढ़ रही है. उसमें जर्मनी के परमाणु बिजलीघरों का 154 टन अत्यंत रेडियोधर्मी परमाणु कचरा है जिसे रिसाइक्लिंग के लिए फ्रांस भेजा गया था. डानेनबर्ग पहुंचने के बाद कंटेनरों को ट्रकों पर लाद कर 20 किलोमीटर दूर भूमिगत गोदाम में पहुंचाया जाएगा. उसके सोमवार तक गोरलेबेन पहुंचने की संभावना है.

परमाणु कचरा लेकर जा रही ट्रेन की सुरक्षा के लिए 16 हजार पुलिसकर्मियों को लगाया गया है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/महेश झा

संपादन: एन रंजन

DW.COM