1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

जर्मनी फ्रांस : रिकॉर्ड बनाम प्रतिभा

वर्ल्ड कप फुटबॉल के क्वार्टर फाइनल में जब जर्मनी और फ्रांस की टक्कर होगी, तो दो चिर प्रतिद्वंद्वियों के मुकाबले के साथ साथ यह भी देखा जाएगा कि रिकॉर्ड में ऊपर जर्मनी बाजी मारता है या युवा प्रतिभा का धनी फ्रांस.

जर्मनी ने पहले मैच में पुर्तगाल को 4-0 से हराया लेकिन इसके बाद उसकी धार कमजोर होती गई. दूसरी तरफ फ्रांस ने भी पहला मैच होंडुरास के खिलाफ 3-0 से जीता और बाद में स्विट्जरलैंड को 5-2 से हराया, पर आखिरी दो मैचों में वह बहुत अच्छा नहीं कर पाया.

तीन बार की चैंपियन जर्मनी हर विश्व कप में मजबूत टीम होती है, जिसने 18 बार इस टूर्नामेंट में हिस्सा लिया है और 17 बार क्वार्टर फाइनल में पहुंची है और 12 बार आखिरी चार में. एक बार खिताब जीतने वाला फ्रांस सातवीं बार क्वार्टर फाइनल में पहुंच पाया है और पांच बार सेमीफाइनल में.

जर्मनी की टीम में मेसुत ओजिल, थोमास मुलर, फिलिप लाम और बास्टियान श्वाइनश्टाइगर जैसे गोल करने वाले खिलाड़ी हैं और कई लोगों का कहना है कि यह खिताब जीतने के लिए शानदार टीम है. पश्चिम जर्मनी ने 1954, 1974 और 1990 का विश्व खिताब जीता है. एकीकृत होने के बाद टीम कभी वर्ल्ड कप नहीं जीत पाई है.

दूसरी तरफ फ्रांस को 2010 की शर्म से बाहर आना है, जब वह पहले दौर में ही निकल गए थे. करीम बेंजिमा और कप्तान पैट्रिक एव्रा के अलावा पॉल पोग्बा, एंटनी ग्रीजमन और मामादू साखो ने इस टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन किया है. दोनों ही टीमें एक दूसरे की तारीफ कर रही हैं और मनोवैज्ञानिक तौर पर कोई दबाव नहीं लेना चाह रही हैं.

जर्मनी के लिए सबसे बड़ी चुनौती अपनी रणनीति तय करने की होगी क्योंकि मुलर पहले दो मैचों में चलने के बाद ठंडे पड़ चुके हैं और कोच योआखिम लोएव कप्तान फिलिप लाम को रक्षा पंक्ति में ही लगाए रखना चाहते हैं. ऐसे में कोई छिपा रुस्तम टीम के लिए वरदान साबित हो सकता है. फ्रांस और जर्मनी में शुक्रवार को जीतने वाली टीम आखिरी चार में पहुंच जाएगी, जहां उसका मुकाबला मेजबान ब्राजील और कोलंबिया वाले मैच के विजेता से होगा.

एजेए/एएम (डीपीए)

संबंधित सामग्री