1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

जर्मनी ने चैंपियन की तरह खेला: कोच

अर्जेंटीना को रौंदने के बाद जर्मनी के वर्ल्ड कप जीतने की उम्मीद बढ़ीं. शानदार जीत से जर्मनी के कोच योआखिम लोएव खुश. कहा, अर्जेंटीना के खिलाफ बडी़ जीत दर्ज करने के साथ टीम ने चैंपियनों की तरह खेल दिखाया है.

default

चैंपियन की तरह खेली टीम

अर्जेंटीना पर फतह करते ही जर्मन कोच योआखिम लोएव ने कहा, ''मेरी टीम ने जबरदस्त दृढ़ निश्चय दिखाया. टीम में शानदार जीत की ललक है और यह न सिर्फ एक उच्च कोटि की जीत है बल्कि एक चैंपियन प्रदर्शन है.'' युवा खिलाड़ियों से भरी जर्मन टीम के शानदार प्रदर्शन के बाद लोएव की लोकप्रियता भी सातंवे आसमान पर है. इन दिनों वह जर्मनी टेलीविजन चैनलों पर विज्ञापनों में छाए हुए हैं.

WM Südafrika 2010 Deutschland vs Argentinien NO-FLASH

पूरी टीम लय में नज़र आई

विशेषज्ञ कह रहे हैं कि फुटबॉल के खेल में रणनीति बदल रही है. अब कोई नामी गिरामी खिलाड़ियों भूमिका गोल करने से ज्यादा उसके लिए बेहतरीन मौके बनाने वाले प्लेयर के रूप में बदल रही है. वर्ल्ड कप में इस बात को समझने और अमल में लाने का पहला श्रेय लोएव को मिल रहा है. जर्मनी के धुरंधर खिलाड़ी पोडोल्सकी, स्वानश्टाइगर और ओएत्जिल गोल करने से

WM Südafrika 2010 Deutschland vs Argentinien Merkel Stadion

उत्साह बढ़ाने पहुंची जर्मन चासंलर अंगेला मैर्केल

ज्यादा बेहतरीन पास देते दिखाई पड़ रहे हैं. बाकी के काम को क्लोजे और म्यूलर अंजाम दे रहे हैं.

इंग्लैंड और फिर अर्जेंटीना पर विशाल जीत के बाद अब जर्मनी को वर्ल्ड कप का सबसे प्रबल दावेदार बताया जा रहा है. टीम के खिलाड़ियों की औसत उम्र 25 साल से कम है और कोच कहते हैं, ''बस अब जरूरत है तो भावनाओं को काबू में रखने की.'' रणनीति की सफलता पर जर्मन कोच कहते हैं कि, ''हमने अर्जेंटीना के खेल का विश्लेषण किया था. मेसी उनके मुख्य खिलाड़ी हैं. हमने कोशिश की, कि मेसी को ज्यादा से ज्यादा बांध कर रखा जाए. उन्हें दबाव में लाया जाए. अर्जेंटीना के खिलाफ बढ़त हासिल करना हमेशा खतरनाक होता है लेकिन मेरी टीम ने अंत तक शानदार खेल जारी रखा.''

WM Südafrika 2010 Deutschland vs Argentinien Dresden Fans

जश्न में डूबा जर्मनी

वर्ल्ड कप से ठीक पहले जर्मनी के कप्तान माइकल बलाक चोटिल होकर बाहर हुए. फिर अनुभवी और तेज तर्रार गोलकीपर रेने आल्डर को चोट लगी. मिडफील्ड और डिफेंस के अनुभवी खिलाड़ी भी टीम का साथ नहीं दे पाए. तब माना जा रहा था कि युवा खिलाड़ियों से भरी जर्मन टीम बहुत जल्द वर्ल्ड कप से वापस लौट आएगी. लेकिन अब थोमास म्यूलर, मेसुत ओएत्जिल और मानुएल नेउर जैसे युवा खिलाड़ियों ने सिर्फ अपनी प्रतिभा साबित कर दी है, बल्कि विपक्षी टीमों के दांत भी खट्टे कर दिए हैं.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह्

संपादन: एन रंजन

संबंधित सामग्री