1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

जर्मनी ने कहा भारत एशिया प्रशांत में उसका लंगर

भारत दौरे पर पहुंची जर्मन रक्षा मंत्री उर्सुला फॉन डेय लाएन ने परमाणु सत्ता भारत को जर्मनी का महत्वपूर्ण सामरिक सहयोगी बताते हुए कहा है कि सवा अरब की आबादी वाला भारत एशिया प्रशांत क्षेत्र में जर्मनी के लिए "लंगर" है.

अपने भारत दौरे पर फॉन डेय लाएन भारतीय रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के साथ बातचीत के अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात करेंगी. इन मुलाकातों में दोनों देशों के बीच सैनिक सहयोग और हथियार उत्पादन के क्षेत्र में सहयोग पर चर्चा होगी. फॉन डेय लाएन ने बातचीत से पहले कहा, "बातचीत में सुरक्षा नीति से जुड़े व्यापक मुद्दे होंगे."

भारत दुनिया का सबसे बड़ा हथियार आयातक है. स्वीडन के शांति शोध संस्थान सिपरी के अनुसार पिछले पांच सालों में दुनिया भर की हथियार बिक्री का 15 फीसदी भारत को गया है. यह चीन और सऊदी अरब को बेचे गए हथियारों का तिगुना है.

जर्मनी भारत को यूरो फाइटर लड़ाकू विमान बेचने का इच्छुक है लेकिन भारत ने चयन की लंबी प्रक्रिया के बाद फ्रांस से राफाल लड़ाकू विमान खरीदने का फैसला किया है. अब तक राफाल सौदे पर भारत और फ्रांस के बीच पूरी सहमति नहीं हुई है, इसलिए यूरो फाइटर निर्माता अभी भी उम्मीद लगा रहे हैं. भारतीय प्रधानमंत्री मोदी के जर्मनी दौरे पर जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल ने कहा था कि फिलहाल भारत के साथ हथियारों का कोई सौदा मेज पर नहीं है, लेकिन समय आने पर फैसला लिया जाएगा.

जर्मन रक्षा मंत्री की भारत यात्रा भारत और जर्मनी के बीच अक्टूबर में होने वाली तीसरी सरकारी परामर्श बैठक का भी हिस्सा है जिसकी अध्यक्षता प्रधानमंत्री मोदी और चांसलर मैर्केल करेंगे. पिछली मंत्रिस्तरीय परामर्श शिखर बैठक 2013 में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के जर्मनी दौरे पर हुई थी जिसमें भारत सरकार के पांच मंत्रियों ने हिस्सा लिया था.

एमजे/एसएफ (डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री