1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

जर्मनी ने कजाखस्तान को 3-0 से पछाड़ा

जर्मन टीम ने यूरोपीय चैंपियनशिप के क्वालिफाइंग राउंड में कजाखस्तान को 3-0 से हरा दिया और विजयरथ का चलना जारी रखा. जर्मनी के गोल मीरो क्लोजे, मारियो गोमेज और लुकास पोडोल्स्की ने किए.

default

अस्ताना में हो रहे मैच में पहले हाफ में कोई गोल नहीं हुआ. खेल नीरस था. हाफ टाइम के तुरंत बाद मीरोस्लाव क्लोजे को 48 वें मिनट में मौका मिला और उन्होंने उसका फायदा उठाकर गोल दाग दिया. अंतरराष्ट्रीय मैचों में क्लोजे का यह 58वां गोल था और वे अब जर्मन रिकॉर्डधारी गैर्ड मुइलर के रिकॉर्ड से सिर्फ 10 गोल पीछे हैं.

Fußball Deutschland gegen Türkei EM Qualifikation

जर्मनी का दूसरा गोल देर से मैदान पर लाए गए मारियो गोमेज ने 76वें मिनट किया. उन्हें मांसपेशी में खिंचाव की शिकायत के बाद मैदान पर लाया गया था. बाद में उन्होंने कहा, "मेरे लिए यह एक बहुत ही अच्छा अनुभव था." तीसरा गोल लुकास पोडोल्स्की ने 85वें मिनट में किया.

जीत के बाद कप्तान फिलिप लाम ने टिप्पणी की, चार खेलों में 12 अंक, इससे बेहतर और नहीं हो सकता.

फीफा सूची पर 126वें स्थान वाले कजाखस्तान के खिलाफ आज का मैच जर्मनी के लिए कोई मुश्किल खेल नहीं था, हालांकि इसमें बहुत सी नई और मजेदार बातें थीं. मसलन आज तक कभी जर्मनी का मैच इतनी देर से शुरू नहीं हुआ था. मैच की शुरुआत कजाखस्तान के समय से 11 बजे रात में हुई. यूरोपीय चैंपियनशिप के क्वालिफाइंग मैच के लिए जर्मन टीम इतनी दूर पहले कभी नहीं गई थी. उसे चार हजार किलोमीटर दूर कजाखस्तान पहुंचने के लिए 5 घंटे की उड़ान भरनी पड़ी. लेकिन कृत्रिम घास पर हुए मैच ने ट्रेनर योआखिम लोएव के खिलाड़ियों के लिए कोई मुश्किल नहीं खड़ी की.

इससे पहले 1996 में भी जर्मनी क्वालिफाइंग चरण की शुरुआत में पहले चार मैच जीत चुका है. उस साल उसने यूरोपीय टाइटल भी जीती थी.

ग्रुप ए के चौथे मैच में चौथी जीत के साथ जर्मनी ग्रुप में 12 अंकों के साथ सबसे आगे है. दूसरे स्थान पर 6 अंकों के साथ ऑस्ट्रिया है जबकि तुर्की के भी 6 अंक हैं. वह अजरबाइजान से 0-1 से हार गया.

यूरोपीय चैंपियनशिप का उलट क्वालिफाइंग राउंड अगले साल होगा. 26 मार्च को जर्मनी के काइजर्सलाउटेन में जर्मन टीम का मुकाबला कजाखस्तान से होगा.

रिपोर्ट: एजेंसियां/महेश झा

संपादन: एन रंजन

WWW-Links