1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

जर्मनी जीता पर गोल रोकने में नाकाम

क्वालिफाइंग मुकाबले में स्वीडन को 5-3 से धोने के बाद जर्मन कोच योआखिम लोएव का कहना है कि ब्राजील वर्ल्ड कप से पहले जर्मनी की टीम को अपनी रक्षा पंक्ति की कमियों को दूर करना होगा.

जर्मन टीम 10 क्वालिफाइंग मुकाबलों में 9वीं जीत से पहले दो गोल पीछे चल रही थी लेकिन चेल्सी के लिए खेलेने वाले आंद्रे शुरले ने मैच के दूसरे हाफ में हैट ट्रिक मार कर उसकी जरूरतें पूरी कर दी. ब्राजील के लिए पहले ही क्वालिफाई कर चुकी जर्मन टीम ने अब स्वीडन पर पूरे आठ अंकों की बढ़त ले ली है और साथ ही पिछले साल के क्वालिफाइंग मुकाबले में ड्रॉ हुए मैच में गंवाए अंक का हिसाब भी चुकता कर लिया है. क्वालिफाइंग मुकाबलों में 2007 के बाद अब तक नहीं हारी जर्मन टीम पहले हाफ में पीछे थी लेकिन दूसरे हाफ में चार गोल कर उसने अपनी हार बचा ली.

हालांकि स्वीडन के माथे पर पिछले साल चार शून्य से आगे चल रही टीम को ड्रॉ करने पर मजबूर करने के गौरव में इस हार से कोई कमी नहीं आई है. स्टार खिलाड़ी ज्लाटान इब्राहिमोविच की गैर मौजूदगी में भी स्वीडन ने तोबियास हायसन और एलेक्जांडर काचानिक्लिच के गोलों के दम पर उसने पहले हाफ में जर्मन टीम पर बढ़त बनाए रखी. जर्मन कोच लोएव का कहना है, "बहुत देर तक गेंद अपने पास रखने के बावजूद हम दो खास स्थितियों के कारण पीछे हुए. हम जानते हैं कि हमें इस तरह की गलती नहीं करनी लेकिन हमेशा यह हमारे लिए काम नहीं करता. दूसरे हाफ में हम गोल के सामने अटल रहे लेकिन रक्षा पंक्ति को बेहतर करना होगा." जर्मन टीम को अब अपनी क्षमता परखने का मौका इटली और इंग्लैंड के साथ दोस्ताना मुकाबलों में मिलेगा जो अगले महीने होने वाले हैं.

दक्षिण अमेरिकी सितारे पहुंचे

दक्षिण अमेरिकी क्वालिफाइंग मुकाबलों ने अर्जेंटीना, कोलंबिया, चिली और इक्वाडोर का टिकट पक्का कर दिया है जबकि मेजबान ब्राजील पहले से ही वहां मौजूद है. उरुग्वे को जरूर वहां पहुंचने के लिए अभी जॉर्डन से मुकाबला करना है. इन टीमों के वहां पहुंचने का मतलब साफ है मेसी, सांचेज, फाल्काओ जैसे फुटबॉल सितारों को ब्राजील का टिकट मिल गया है.

लियोनेल मेसी के नेतृत्व में अर्जेंटीना की टीम उम्मीदों पर खरी उतरी है. चार साल पहले कोच डिएगो माराडोना के रहते हुए भी टीम को क्वालिफाइंग मुकाबलों में जूझना पड़ा था और बाद में अपना बेहतरीन खेल दिखा कर ही वो जोहानिसबर्ग पहुंचे थे. इस बार बड़ी आसानी से दो दौर पहले ही उन्होंने अपनी सीट पक्की कर ली और इलाके में सिरमौर भी बन गए हैं. कोच अलेजांद्रो साबेला ने मेसी, गोंजालो हिंगुआएन, सर्जियो आगुएरो और एंजेल दी मारिया के साथ मिला कर बेहद आक्रामक टीम बनाई है. इसके अलावा एजेक्वील गैरे और फेडेरिको फरनांडिज के साथ रक्षा पंक्ति भी पिछले बार की तुलना में ज्यादा दमदार है. साबेला ने मंगलवार को कहा कि वर्ल्ड कप के दावेदारों की बात हो तो स्पेन और जर्मनी "बाकियों से ऊपर" हैं, लेकिन इसके साथ ही उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि अर्जेंटीना टूर्नामेंट में अपनी "बड़ी संभावना" के दम पर जीत के लक्ष्य के साथ ब्राजील जाएगा.

कोलंबिया का खेल अकसर गलतियों से भरा होता है लेकिन अर्जेंटीना की तरह ही उन्होंने अपने हमलावर हुनर के दम पर जीतना सीख लिया है. फॉर्म में चल रहे स्ट्राईकर राडामेल फाल्काओ और टियोफिलो गुतिरेज के साथ ही मिडफिल्डर जेम्स रोड्रिगेज और फ्रेडी गुआरिन ने कोलंबिया की वर्ल्ड कप में वापसी करा दी है. फ्रांस में 1998 के वर्ल्ड कप के बाद पहली बार वो वर्ल्ड कप में पहुंचे हैं और वह भी क्वालिफाइंग दौर का एक मैच बाकी रहते ही.

एनआर/एमजे (एएफपी, डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री