1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

जर्मनी उरुग्वे मैच, गोल्डन बूट पर नज़र

फुटबॉल वर्ल्ड कप में तीसरी जगह पाने के लिए आज जर्मनी और उरुग्वे के बीच भिडंत है. पॉल बाबा ने तो जर्मनी के जीतने की भविष्यवाणी की है लेकिन इस मैच में सबकी नज़र होगी सबसे ज़्यादा गोल करने वाले खिलाड़ी पर....

default

तीसरे नंबर के लिए भिडंत

सबसे ज़्यादा गोल करके चार खिलाड़ियों में से कौन गोल्डन बूट का हक़दार बनेगा. यह शनिवार को जर्मनी और उरुग्वे के बीच होने वाले मैच का खास आकर्षण होगा. इस लिस्ट में जर्मनी के मीरोस्लाव क्लोजे भी हैं. जो रोनाल्डो के 15 गोल की बराबरी करने से एक ही गोल पीछे हैं. इस वर्ल्ड कप में क्लोजे ने चार गोल किए हैं और थोमास म्यूलर ने भी. थोमास को सेमीफाइनल में निलंबित किया गया था.

WM Südafrika 2010 Deutschland vs Argentinien Flash-Galerie

पीठ दर्द से परेशान क्लोजे

उरुग्वे के डिएगो फोर्लान और लुइस सुआरेज के नाम भी चार चार गोल हैं. नीदरलैंड्स के मिडफील्डर वेस्ली स्नाइडर और स्पेन के स्ट्राइकर डेविड विया के पांच पांच गोल हैं और रविवार को होने वाले फाइनल में गोलों की संख्या बढ़ा भी सकते हैं.

जर्मनी के मीरोस्लाव क्लोजे ने 2006 में गोल्डन बूट जीता था. फिलहाल कप्तान लाम, पोडोल्स्की और कोच योआखिम लोएव पुडोलस्की फ्लू से पीड़ित हो गए हैं. लोएवे शुक्रवार को प्रैक्टिस में शामिल नहीं हुए और संवाददाता सम्मेलन में भी नहीं. असिस्टेंट कोच हंसी फ्लिक का कहना है, "मीरोस्लाव क्लोजे वर्ल्ड कप का रिकॉर्ड तोड़ने के बहुत करीब हैं लेकिन फिलहाल वे बीमारी से लड़ रहे हैं. उनके हाल में काफी सुधार है लेकिन अभी हम कुछ भी निश्चित नहीं कह सकते."

उरुग्वे के कोच ऑस्कर ताबारेत्स ने ज़ोर दिया कि तीसरे नंबर के लिए खेल बहुत अहम है लेकिन वे भी गोल स्कोरिंग के मामले में उलझ गए. "हो सकता है क्लोजे गोल बना ले, लेकिन मैं उन्हें बनाने नहीं देना चाहता. वो बहुत अनुभवी और मजबूत खिलाड़ी हैं. जब उन्हें बाहर बिठा दिया गया तब जर्मनी को मुश्किल हुई. वे वर्ल्ड कप के एक बहुत अच्छे खिलाड़ी हैं."

Flash-Galerie Trainer Reaktionen WM 2010 Südafrika

तीसरा नंबर अहम

ताबारेत्स का कहना था कि फोरलान निस्वार्थ खेल खेलते रहे हैं. कोच का कहना था कि वे शनिवार के खेल में व्यक्तिगत सम्मान पर ध्यान नहीं देंगे. "वो अच्छे हैं. लेकिन वो गोल्डन बूट के लिए नहीं खेल रहे. ये साथ मिल कर खेलने वाला खेल है और वे ऐसे खिलाडी हैं जो सबसे पहले कहेंगे ये टीम का खेल है."

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः एन रंजन