1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

जयललिता बरी, फिर बन सकती हैं मुख्यमंत्री

कर्नाटक उच्च न्यायालय ने आय से अधिक संपत्ति मामले में निचली अदालत का फैसला रद्द कर दिया है और तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जे जयललिता समेत सभी चारों आरोपियों को बरी कर दिया.

अदालत द्वारा निर्णय सुनाए जाने के बाद जयललिता के वकील बी कुमार ने पत्रकारों को बताया कि इस मामले में अन्य आरोपियों शशिकला, सुधाकरन और इल्लावरासी को भी अदालत ने बरी कर दिया. उन्होंने दावा किया कि जयललिता को सभी आरोपों से बरी कर दिया गया है और अब उनके फिर से मुख्यमंत्री बनने की राह में कोई कानूनी पेंच नहीं है. जयललिता पर आरोप था कि वर्ष 1991 से 96 के दौरान जब वह पहली बार तमिलनाडु की मुख्यमंत्री थीं तब उन्होंने आय से 58 करोड़ रुपये अधिक की संपत्ति बनायी. पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने इस पर ट्वीट किया है कि करोड़ों की संपत्ति पर किसी तरह की सफाई या फिर टैक्स रिटर्न की जरूरत नहीं समझी गयी.

19 सालों से यह मामला अदालतों में चल रहा है और इतने सालों से पत्रकार हर बार अदालत के बाहर खड़े हो कर सुनवाई की रिपोर्टिंग करते रहे हैं. इस बारे में ट्विटर पर लिखा जा रहा है कि रिहाई जयललिता की नहीं, पत्रकारों की हुई है.

इस मामले में निचली अदालत ने जयललिता को पिछले साल 27 सितंबर को चार साल की कैद और 100 करोड़ रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई थी जिसके खिलाफ उन्होंने कर्नाटक उच्च न्यायालय में अपील दायर की. जयललिता के साथ उनकी करीबी सहयोगी शशिकला समेत तीन लोगों को सजा सुनाई गयी थी. उच्च न्यायालय की एकल पीठ के न्यायाधीश न्यायमूर्ति कुमारस्वामी ने निचली अदालत के फैसले को रद्द करते हुए सभी चारों आरोपियों को बरी कर दिया. पहले सलमान खान और अब जयललिता के मामले ने लोगों के बीच न्याय प्रणाली पर बहस छेड़ दी है. लोग लिख रहे हैं कि पैसे और ताकत का असर अदालत के फैसलों पर नहीं पड़ना चाहिए.

जयललिता समेत तीन लोगों ने मिलकर निचली अदालत के फैसले को उच्च न्यायालय में चुनौती दी थी. इस अपील पर सुनवाई के लिए उच्चतम न्यायालय ने कर्नाटक उच्च न्यायालय को एक विशेष पीठ के गठन का आदेश देते हुए कहा था कि मामले में दोनों पक्षों की जिरह और गवाही 45 दिन के अंदर पूरी हो जानी चाहिए. जयललिता ने कहा है कि इस फैसले से उन्होंने खुद को वैसे ही साबित कर दिया है जैसे खरा सोना कसौटी पर रखा जाता है. ट्विटर पर #AmmaIsBack के अलावा #MummyReturns भी छाया हुआ है. कहा जा रहा है कि जयललिता के लिए मदर्स डे एक दिन देर से आया.

आईबी/एमजे (वार्ता)


DW.COM

संबंधित सामग्री