1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

फीडबैक

जयराम रमेश शर्तें मान लें

नेताओं और उनकी घोषणाओं पर बनी खबरों के बारे में हमारे पाठकों ने हमें बहुत सी सटीक, तीखी और विचारों से भरपूर प्रतिक्रियाएं लिख भेजी हैं. एक नजर इन प्रतिक्रियाओं पर.

default

नहीं मानेंगे बाध्यकारी कानूनी समझौता: रमेश

भारत यदि अपनी जनता को सामूहिक भविष्य के लिए कुदरती आबो हवा और भोजन देना चाहता है तो उसे पर्यावरण से सम्बंधित हर सलाह को मान लेना चाहिए . श्री जयराम नरेश का शर्त नहीं मानना देश को बहुत महंगा पड़ेगा. आप पर्यावरण विरोधी (परमाणु) पर तो हर शर्त मान रहे हैं किन्तु आबोहवा और आहार जैसी प्रमुख ज़रूरतों को नजर अंदाज कर रहे हैं. बिना जुताई की खेती कर हम इन शर्तों को ना सिर्फ बिना पैसे से पूरा कर सकते हैं वरन पैसा भी बचा सकते हैं.

राजू टीटूस

*******

अकेले पड़े दिग्विजय बयान से पलटे

भारत में नेता झूठे हैं. इनकी किसी भी बात पर कोई विश्वास नहीं करता. ऐसे बयान ये सुर्खियों में बने रहने के लिए देते हैं.

डॉ. संदीप सक्सेना

कांग्रेस की अपनी साख गिरी हुई देखकर दिग्विजय ने ये बचकाना बयान दिया हैं. लेकिन इन्हें यह नहीं पता कि दूसरों पर लांछन लगाने से खुद उसकी पार्टी की फजीहत हो रही हैं. कांग्रेस आज घोटालों के भंवर में फस गई हैं. अब उसे खुद ही अपना रास्ता चुनना पड़ेगा.

निर्मल सिंह राणा

मेरा कहना है कि जो दिग्विजय जी ने कहा है उस पर एक बैठानी चाहिए और अगर उन्होने ऐसा कहा है तो उन्हें गोली मार कर मौत की सजा दे देनी चाहिए. हमारे देश की प्रधान मंत्री सोनिया जी की इस पर क्या राय है, कि दिग्विजय को ऐसा कहना चाहिए.... और अगर नहीं, तो उन्हें ज़ीने की क्या जरूरत हैं. अगर जी ये भी तो देश का लीडर बने रहने की क्या आवश्यकता है . जेपीसी के नाम पर जो सांसद में हो रहा है, उसे हमारे प्रधानमंत्री जी दुःखी और चिंतित है और उनका है कि जो हो रहा है वो ठीक नहीं हो रहा है.

सुनील, पुणे

********

जीत के चुंबन के बाद महिला पत्रकार से शादी फुटबाल विश्व कप के विजेता कप्तान का चुंबन विश्व कप जीत की तरह ही अचूक निशाने पर बैठा और सारा रूपी बॉल उनके दस्तानों में ही नहीं, दिल में भी समा गई. आप सचमुच बड़ी रोचक ख़बरें ढूंढ कर लाते है.

प्रमोद महेश्वरी, शेखावटी, राजस्थान

********

यूनेस्को का अवार्ड पाने वाली और मानव अधिकार के लिए लडने वाली असमा जहांगीर को समर्पित अंतरा काफी प्रेणादायक था. एक औरत होने के बावजूद जिन मुश्किलों का सामना करके वे मानव अधिकार के लिए लड़ रही है वे काबिले तारीफ हैं.

कार्यक्रम और जानकारी के लिए धन्यवाद.

सविता जावले, मार्कोनी डी एक्स क्लब, पर्ली वैजनाथ (महाराष्ट्र)

***********

बांग्लादेश करेगा 226 भारतीयों को सम्मानित बांग्लादेश करेगा 226 भारतीयों को सम्मानित पढ़कर बहुत अच्छा लगा . यह कृतज्ञता ज्ञापन दोनों देशों को और करीब लाएगा . भारत तो दक्षिण एशिया क्षेत्र में सदा ही बड़े भाई की भूमिका निभाता रहा है . बाकी देश भी उसे बड़ों सा सम्मान देने लगें तो उनका ही लाभ और क्षेत्र का विश्व में स्थान व वर्चस्व बढ़ेगा.

विवेक रंजन श्रीवास्तव, जबलपुर

संकलनः कवलजीत कौर

संपादनः आभा एम