जब संघ और भाजपा होते थे रीता बहुगुणा जोशी के निशाने पर | दुनिया | DW | 20.10.2016
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

जब संघ और भाजपा होते थे रीता बहुगुणा जोशी के निशाने पर

लंबे समय तक कांग्रेस में रहीं रीता बहुगुणा जोशी भाजपा में शामिल हो गई हैं. इसके साथ ही उन्होंने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व पर सवाल उठाया है.

लगता है कि पार्टी बदलते ही उनकी सोच भी तुरंत बदल गई है. अब वो प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ कर रही हैं. लेकिन ज्यादा दिन नहीं हुए हैं जब रीता बहुगुणा जोशी भारतीय जनता पार्टी और संघ परिवार पर आए दिन तीखे हमले बोलती थीं. देखिए वीडियो जो इसी साल का है.

यह वीडियो जेएनयू में हुए विवाद के बाद का है जिसमें रीता बहुगुणा भारतीय जनता पार्टी और संघ परिवार पर एक खास तरह की विचारधारा को थोपने का इल्जाम लगा रही हैं. वीडियो में वो रोहित वेमुला से लेकर कन्हैया प्रकरण तक भारतीय जनता पार्टी को घेरने की कोशिश कर रही हैं. रीता बहुगुणा जोशी उत्तर प्रदेश कांग्रेस समिति की अध्यक्ष रह चुकी हैं और राज्य में चुनाव से ठीक पहले उन्होंने भारतीय जनता पार्टी का दामन थामा है.

रीता बहुगुणा जोशी उत्तर प्रदेश के प्रमुख नेता रहे हेमवती नंदन बहुगुणा की बेटी हैं. उनके भाई विजय बहुगुणा उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रह चुके हैं और पिछले दिनों बीजेपी की मदद से की गई उनकी बगावत की वजह से हरीश रावत की कांग्रेस सरकार खतरे में आ गई थी. सुप्रीम कोर्ट के हस्तक्षेप के कारण हरीश रावत की सरकार फिर से बहाल हो पाई.

संबंधित सामग्री