1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

जडेजा के साथ खड़ी टीम इंडिया

क्रिकेट का मैच लंदन के लॉर्ड्स ग्राउंड पर हो रहा है और चर्चा किसी और बात की हो रही है. जडेजा को अपशब्द कहने के मामले में इंग्लैंड के बॉलर जिमी एंडरसन पर तलवार लटक रही है.

भारत के ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा का दावा है कि पिछले मैच के दौरान जेम्स एंडरसन ने उनके खिलाफ न सिर्फ अपशब्द का इस्तेमाल किया, बल्कि बाद में उन्हें धक्का भी दिया. भारत ने इस मामले को गंभीरता के साथ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद में उठाया है, जबकि इंग्लैंड का कहना है कि भारत राई का पहाड़ बना रहा है.

भारतीय कप्तान महेंद्र धोनी के पक्के यार समझे जाने वाले जडेजा के साथ पूरी टीम इंडिया खड़ी है. कप्तान धोनी का कहना है कि कुछ बातों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है और इसके लिए पक्की गाइडलाइंस मौजूद हैं. लॉर्ड्स मैच से पहले उन्होंने कहा, "हमने महसूस किया कि यह गलत हुआ है और इसलिए हमने इस मामले को आगे बढ़ाया. इस बात को ख्याल रखिए कि हमने इस चीज की शुरुआत नहीं की है." उन्होंने कहा कि जडेजा ने अच्छा किया कि अपनी तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं की.

England Cricket James Anderson

मुश्किल में फंसे जेम्स एंडरसन

धोनी का कहना है, "इस प्रेस कांफ्रेंस में आपका हक है कि आप मुझसे कड़े सवाल पूछें लेकिन मेरा हक है कि मैं चाहूं तो जवाब दूं या न दूं. इसका मतलब यह नहीं हो सकता है कि आप मुझे छुएं (धक्का दें) या मैं आपके साथ ऐसा करूं." जडेजा का आरोप है कि एंडरसन ने उन्हें ग्राउंड पर अपशब्द कहे. और इसके बाद जब खिलाड़ी पैवेवलियन लौट रहे थे, तो एंडरसन ने उन्हें पीछे से धक्का दिया.

इस घटना ने भारतीय टीम के 2008 के ऑस्ट्रेलिया दौरे की याद ताजा कर दी है. उस दौरान भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह और ऑस्ट्रेलिया के एंड्रयू साइमंड्स के बीच कहा सुनी के बाद सीरीज पर ही खतरा पैदा हो गया था. हालांकि उस मामले को सुलझा लिया गया था. धोनी का कहना है कि इस घटना के बावजूद भारत के इंग्लैंड दौरे पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

दूसरी तरफ इंग्लैंड का कहना है कि भारत की यह रणनीति है कि वह सीरीज से एंडरसन को बाहर करा दे ताकि उनकी गेंदबाजी का सामना न करना पड़े. अब इंग्लैंड ने भी आईसीसी में जडेजा के खिलाफ शिकायत की है. अगर एंडरसन पर दोष साबित होता है, तो उन पर जुर्माने के अलावा चार मैचों की पाबंदी भी लग सकती है.

एजेए/एएम (एएफपी)