1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

छह करोड़ साल पुरानी केले की पत्तियां

भारत के कुछ रिसर्चरों का दावा है कि उन्हें छह करोड़ साल पुराने केले की पत्ती, बरगद और नारियल के पेड़ों के जीवाश्म मिले हैं. ये जीवाश्म मध्य प्रदेश में इंदौर से 100 किलोमीटर दूर धार जिले में खुदाई से प्राप्त हुए हैं.

default

मंगल पंचायतन परिषद के अनुसंधानकर्ताओं का कहना है कि इन जीवाश्मों के अलावा उन्हें पानी से शंख के आकार के जीव जीवाश्म भी मिले हैं जो करोड़ों साल से जमीन के नीचे दफन थे. परिषद के प्रमुख विशाल वर्मा का कहना है कि यह जीवाश्म उसी जगह पर मिले हैं जहां कुछ समय पहले उनके साथियों को डायनासोर के अंडे और हड्डियां मिली थीं.

मध्य प्रदेश सरकार पहले ही इस जगह पर जीवाश्म पार्क बनाने का फैसला कर चुकी है. इस इलाके में आठ किलोमीटर के दायरे में फैली एक झील के भी प्रमाण मिले हैं. इसके ज्वालामुखी के लावा में मिल जाने के भी सबूत दिखाई पड़े हैं. वर्मा ने ऐसे 24 स्थान खोजने का भी दावा किया है जहां ज्वालामुखी का लावा जमा हुआ था.

परिषद के मुताबिक ये जीवाश्म इस बात का संकेत देते हैं कि यह क्षेत्र जैव विविधता के लिहाज से अत्यंत समृद्ध रहा है. यह परिषद पिछले कई साल से नर्मदा घाटी में रिसर्च कर रही है. चार साल पहले परिषद को धार में डायनासोर के 400 अंडे मिले. दाहोद से जबलपुर तक फैला नर्मदा का इलाका करोड़ों वर्ष पहले डायनासोर की गतिविधियों का गवाह रहा है जिसके सबूत इलाके में जीवाश्म अंडों के रूप में मौजूद हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः ओ सिंह

DW.COM