1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

चोटों से कराहती जर्मन टीम

वर्ल्ड कप जीतने के बाद जर्मनी यूरो 2016 भी जीतना चाहता है. लेकिन अर्जेंटीना से मिली करारी हार और घायल खिलाड़ियों की फौज ने कोच योआखिम लोएव के माथे पर चिंता की लकीरें खींच दी हैं.

ब्राजील में वर्ल्ड कप जीतने वाले जर्मन कोच लोएव को बड़ा झटका उस वक्त लगा जब उन्हें पता चला कि चोट की वजह से माट्स हुमेल्स यूरो 2016 के क्वालिफाइंग मैच नहीं खेल पाएंगे. थोड़ी देर बार यूलियान ड्राक्सलर की गंभीर चोट का भी पता चला. अटैकिंग मिडफील्डर मेसुत ओएजिल, सेंट्रल मिडफील्डर और कप्तान बास्टियान श्वाइनश्टाइगर और अटैकिंग मिडफील्डर सामी खेदीरा भी पहले से घायल हैं.

कुल मिलाकर देखा जाए तो जर्मन टीम के पांच बड़े खिलाड़ी रविवार को स्कॉटलैंड के खिलाफ होने वाले क्वालिफाइंग मैच में नहीं खेल पाएंगे. अब कोच लोएव के पास कुल 19 खिलाड़ी बचे हैं इन्हीं में से उन्हें रविवार को डॉर्टमुंड में होने वाले मैच के लिए अंतिम 17 खिलाड़ी चुनने हैं.

Deutschland vs Argentinien 03.09.2014

परेशान हैं कोच लोएव

स्कॉटलैंड की टीम बहुत मजबूत नहीं है, लेकिन टीम बीते एक साल से कोई भी मैच नहीं हारी है. वहीं जर्मन टीम बदलावों से जूझ रही है. वर्ल्ड कप के बाद उसके तीन बड़े खिलाड़ी रिटायर हो चुके हैं. स्ट्राइकर मिरोस्लाव क्लोजे, मिडफील्डर फिलिप लाम और डिफेंडर पेर मेर्टेसाकर की कमी को भरना टीम के लिए आसान नहीं. जो बचे हैं उनमें से भी आधे चोट से कराह रहे हैं.

ऊपर से क्लब फुटबॉल की वजह से युवा खिलाड़ियों को एक साथ अभ्यास करने का मौका ही नहीं मिला है. अलग अलग क्लबों के लिए खेलने वाले यह खिलाड़ी बुधवार को जब अर्जेंटीना के खिलाफ दोस्ताना मैच में टीम के रूप में साथ आए तो उनमें तालमेल की भारी कमी दिखी. अर्जेंटीना ने इसका फायदा उठाते हुए जर्मनी को 4-2 से हराया.

इस हार ने बता दिया कि लाम, मेर्टेसाकर और हुमेल्स के बिना जर्मनी का डिफेंस कमजोर पड़ जाता है. हुमेल्स कॉर्नर को हेड मारकर गोल में बदलने के लिए भी मशहूर हैं. अर्जेंटीना के खिलाफ जर्मन टीम को कई कॉर्नर मिले लेकिन हुमेल्स के बिना टीम इनका कोई फायदा नहीं उठा सकी.

ओएसजे/एएम (डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री