चोटिल भारत का मुकाबला घायल कंगारुओं से | खेल | DW | 08.10.2010
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

चोटिल भारत का मुकाबला घायल कंगारुओं से

ठसक के साथ पहला टेस्ट मैच जीतने वाली भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शनिवार से दूसरे टेस्ट में भिड़ना है. बैंगलोर टेस्ट में भारत को चोटिल खिलाड़ियों के बगैर उतरना होगा, वहीं पोंटिंग की टीम घायल शेर की तरह उतरेगी.

default

लक्ष्मण पर भी संदेह

टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और उनकी पूरी टीम पूरे उत्साह के साथ बैंगलोर के चिन्नास्वामी स्टेडियम में उतरने को बेकरार है. टीम को मोहाली टेस्ट मैच में एक विकेट से सनसनीखेज जीत का मनोवैज्ञानिक लाभ है लेकिन सितारा खिलाड़ी घायल हैं.

भारत निश्चित तौर पर बैंगलोर टेस्ट जीतकर सीरीज को 2-0 के नतीजे के साथ पूरा करना चाहेगी जिसके साथ ही उसकी पहले नंबर की गद्दी भी बची रहेगी. लेकिन मुश्किल यह है कि सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर और मोहाली में गेंद की जगह बल्ले से जलवा बिखेरने वाले इशांत शर्मा चोट की वजह से बाहर हैं.

पहले टेस्ट के हीरो वीवीएस लक्ष्मण की पीठ में चोटी थी और उनके खेलने पर संदेह बना हुआ है क्योंकि वह पिछले दो दिन से प्रैक्टिस नहीं कर पाए हैं. हालांकि कप्तान धोनी का कहना है, "लक्ष्मण अब पहले से बेहतर महसूस कर रहे हैं. वह प्रैक्टिस नहीं कर पा रहे हैं लेकिन हम तो चाहेंगे ही कि वह आखिरी 11 में जरूर शामिल हों. पर यह बात भी सच है कि पांच दिनों तक चलने वाले मैच में सोच समझकर फैसला लेना होगा."

Cricket - Großbild

ईरानी ट्रोफी में अच्छा प्रदर्शन करने वाले तमिलनाडु के बल्लेबाज अभिनव मुकुंद और गेंदबाज जयदेव उनादकट को गंभीर और इशांत की जगह टीम इंडिया में जगह मिल गई है. हालांकि अभी यह पक्का नहीं हो पाया है कि वे आखिरी 11 में जगह बना पाएंगे या नहीं.

बैंगलोर का विकेट भी स्पिनरों की मदद कर सकता है और ऐसे में बड़ा स्कोर करने वाली टीम को फायदा पहुंचना लाजमी है.

जहां तक ऑस्ट्रेलिया का सवाल है. पिछले छह साल से वह भारत में कोई टेस्ट मैच नहीं जीत पाया है और कप्तान रिकी पोंटिंग तो अपनी अगुआई में दुनिया की सबसे अच्छी समझे जाने वाली टीम को भारत में एक मैच भी नहीं जिता पाए हैं.

धोनी कहते हैं कि कुछ भी हो जाए, हम उन्हें हल्के में नहीं लेंगे, "वह दूसरे टेस्ट में बेहतरीन प्रदर्शन कर सकते हैं. यह उनकी आदत है कि वे आसानी से हार नहीं मानते. हम हर तरह की परिस्थितियों के लिए तैयार हैं."

रिकी पोंटिंग को अपने बल्लेबाजों पर फिर एक बार भरोसा करना होगा जो मोहाली की दूसरी पारी में ढह गए थे. हालांकि कागजों पर पिछले 25 साल से सबसे मजबूत चल रही टीम इंडिया की बल्लेबाजी दिख रही है जिसमें मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़, वीवीएस लक्ष्मण और सुरेश रैना जैसे मंझे हुए बैट्समैन हैं.

ऑस्ट्रेलिया ने आखिरी बार 1969-70 में बिल लॉरी की कप्तानी में भारत में टेस्ट सीरीज जीती है. उसके बाद आमतौर पर उसे भारत में हार ही देखनी पड़ी है.

दोनों टीम इस प्रकार हैं:

भारत

महेंद्र सिंह धोनी (कप्तान और विकेट कीपर), वीरेंद्र सहवाग, एम विजय, राहुल द्रविड़, सचिन तेंदुलकर, वीवीएस लक्ष्मण, सुरेश रैनी, जहीर खान, हरभजन सिंह, एस श्रीशांत, अमित मिश्रा, प्रज्ञान ओझा, सी पुजारा, अभिनव मुकुंद और जयदेव उनादकट.

ऑस्ट्रेलिया

रिकी पोंटिंग (कप्तान), माइकल क्लार्क, शेन वॉटसन, साइमन कैटिच, फिलिप ह्यूज्स, माइक हसी, मार्कस नॉर्थ, डॉ बोलिंगर, बेन हिलफेनहाउस, मिचेल जॉनसन, टिम पेन (विकेट कीपर), जेम्स पैटिन्सन, पीटर जॉर्ज, नाथन हॉरित्ज, स्टीवन स्मिथ, मिचेल स्टार्क.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ए जमाल

DW.COM

WWW-Links