चैपल की वर्ल्ड टीम में एक भी कंगारू नहीं | खेल | DW | 03.01.2011
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

चैपल की वर्ल्ड टीम में एक भी कंगारू नहीं

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान और मशहूर क्रिकेटर इयान चैपल ने अपनी ड्रीम टीम बनाई है. 2010 वर्ल्ड-11 नाम की टीम में मास्टर ब्लास्टर और महेंद्र सिंह धोनी शामिल हैं. टीम में एक भी ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी नहीं है.

default

चैपल्स 2010 वर्ल्ड-11 में चार भारतीय खिलाड़ियों को शामिल किया गया है. सचिन तेंदुलकर और टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के साथ तेज गेंदबाज जहीर खान और विस्फोटक वीरेंद्र सहवाग भी टीम का हिस्सा बने हैं. डेली टेलीग्राफ अखबार में अपनी ड्रीम टीम के बारे में लिखते हुए चैपल ने कहा है, ''चार साल पहले ऑस्ट्रेलिया ने मेलबर्न में ही इंग्लैंड को 5-0 से रौंदकर सीरीज जीती थी. अब टीम की हालत पतली है, यही वजह है कि टीम का कोई खिलाड़ी वर्ल्ड-11 में जगह नहीं बना सका है.''

Ricky Ponting Mannschaftskapitän Cricket Australien

अकेले पोंटिंग क्या करें: चैपल

2006 में चैपल की टीम में ऑस्ट्रेलिया के छह खिलाड़ी शामिल थे. कंगारू खिलाड़ियों की ताकत उस वक्त ऐसी थी कि ब्रेट ली जैसे तूफानी गेंदबाज को 12वां खिलाड़ी चुना गया था. इस बार मुख्य 11 खिलाड़ियों में कोई कंगारू नहीं है. शेन वॉटसन को 12वां खिलाड़ी चुना गया है.

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट को बुलंदियों तक ले जाने वाले इयान चैपल टीम के इस खराब प्रदर्शन के लिए खिलाड़ियों को दोष ठहराते हैं. उनके मुताबिक रिकी पोंटिंग के पास होनहार खिलाड़ी ही नहीं है. चैपल ने कहा, ''शेन वार्न और ग्लेन मैक्ग्रा जैसे गेंदबाजों के संन्यास के बाद से ही टीम खाई की तरफ जा रही है. एडम गिलक्रिस्ट और मैथ्यू हेडेन के संन्यास लेने से यह प्रक्रिया और तेज हो गई. अब सिर्फ रिकी पोंटिंग ही ऐसे खिलाड़ी हैं जो नीचे गिरने की प्रक्रिया को रोकने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन अकेला खिलाड़ी आखिर क्या कर सकता है.''

ऑस्ट्रेलियाई टीम पिछले एक साल से बेहद बुरा वक्त देख रही है. भारत से मिली हार के बाद टीम प्रतिष्ठित एशेज सीरीज में पिट रही है. इंग्लैंड ने उसे 2-1 से पीछे कर रखा है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह

संपादन: ए जमाल

DW.COM

WWW-Links