1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

चैंपियंस लीग में पहुंचा लेवरकूजन

जर्मनी की बायर लेवरकूजन ने कोपेनहागेन की टीम को चार गोल से हरा कर चैंपियंस लीग में प्रवेश पा लिया. इसके अलावा इंग्लैंड की आर्सेनल और स्पेन की एथलेटिक बिलबाओ ने भी दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित लीग फुटबॉल में जगह बनाई.

पिछले हफ्ते डेनमार्क की टीम के खिलाफ लेवरकूजन ने 3-2 से जीत हासिल की थी. इसके बाद अपने घर में खेले गए मुकाबले में उसने लगातार चार गोल किए और कोपेनहागेन को हाथ पर हाथ धर कर देखना पड़ा. लेवरकूजन की टीम ने पहला गोल शुरुआती कुछ सेकेंडों में ही कर दिया.

सातवें मिनट तक उनकी बढ़त दो गोलों की हो गई थी. इसके बाद डेनमार्क के सारे सपने टूट गए और यह तय हो गया कि चैंपियंस लीग में जर्मन टीम का ही दाखिला होगा. बाद में लेवरकूजन ने दो गोल और किए. इस दौरान कोपेनहागेन स्टेल सोलबाकेन भारी दबाव में दिख रहे थे. मैच का नतीजा जर्मन टीम के फेवर में 4-0 रहा.

इसके अलावा आर्सेनल की टीम ने बेसिकटास के खिलाफ 1-0 से जीत हासिल कर ली और चैंपियंस लीग में अपनी जगह बनाए रखी. आर्सेन वेंगर ने 17 साल पहले इंग्लैंड की इस टीम की कमान संभाली है और तब से यह हर बार चैंपियंस लीग में खेलता आया है.

तुर्की में खेले गए पहले चरण के ड्रॉ मैच के बाद से आर्सेनल दूसरे मैच में शुरू से ही सतर्क था. तुर्क टीम बेसिकटास अगर एक अवे गोल कर देती, तो सारी कहानी बदल जाती क्योंकि तुर्की में खेला गया पहला मैच 0-0 से बराबर रहा था. लेकिन आखिर में सांचेज ने आर्सेनल के लिए गोल दागा. इसके बाद तुर्क टीम ने बराबरी की भरपूर कोशिश की. लेकिन उनकी कोशिश अंजाम तक पहुंचती, इससे पहले रेफरी की आखिरी सिटी बज गई.

उधर, सैन मामेस में खेले गए मैच में स्पेन के बिलबाओ ने एक गोल से पिछड़ने के बाद भी नेपोली को 3-1 से हरा दिया. दो मैचों के बाद उसका कुल स्कोर नेपोली की टीम के खिलाफ 4-2 रहा और वह भी चैंपियंस लीग में प्रवेश कर गई. बिलबाओ के कोच एरनेस्टो वालवार्डे का कहना है, "हमने देखा है कि प्रतिस्पर्धा करने के तरीके हैं. कुछ टीमें हैं, जिनके पास शानदार खिलाड़ी हैं लेकिन हमारे पास दूसरी चीजें हैं."

एजेए/ओएसजे (डीपीए, एपी)

संबंधित सामग्री