चैंपियंस लीग में दोगुनी टीमें | खेल | DW | 28.11.2012
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

चैंपियंस लीग में दोगुनी टीमें

फुटबॉल की दुनिया के सबसे मशहूर लीग मुकाबले में दोगुनी टीमों को मौका मिलने वाला है. यूरोप के अंदर भारी बदलाव की बात चल रही है, जिसके तहत दूसरे नंबर के टूर्नामेंट यूरोपा लीग को खत्म किया जा सकता है.

यूरोप की फुटबॉल समिति यूएफा ने बताया कि इस मुद्दे पर गंभीरता से चर्चा चल रही है. प्रेसिडेंट और फ्रांस के पूर्व फुटबॉलर मिशाल प्लातिनी ने कहा, "हम लोग इस बात पर चर्चा कर रहे हैं कि 2015 से 2018 के बीच यूरोप में किस तरह की स्पर्धाएं होंगी. हम इस मामले में 2014 में ही अंतिम फैसला कर पाएंगे."

उन्होंने एक फ्रांसीसी अखबार को दिए इंटरव्यू में इस बात के संकेत दिए हैं कि यूरोप की सबसे अहम फुटबॉल प्रतियोगिता चैंपियंस लीग में शामिल होने वाली टीमों की संख्या 32 से बढ़ा कर 64 की जा सकती है. इसके बदले यूरोप की दूसरी नंबर की चैंपियनशिप यानी यूरोपा लीग को खत्म किया जा सकता है.

चैंपियंस लीग में अलग अलग देशों की लीग टीमें शामिल होती हैं. यूरोप के अंदर टीमों की रैंकिंग के हिसाब से उनकी जगह तय होती है. सीमित संख्या होने की वजह से कई देशों की टीमों को जगह नहीं मिल पाती है.

Michel Platini in Tadschikistan

मिशाल प्लातिनी

चैंपियंस लीग में शुरू में लगभग 75 टीमें होती हैं और क्वालीफिकेशन के बाद 32 टीमें बचती हैं. यूरोपीय देशों में होने वाले लीग मुकाबलों में चोटी की टीमों को इसमें क्वालीफिकेशन का मौका मिलता है. लेकिन सिर्फ एक, दो या तीन टीमों को. बाकी की टीमों को यूरोप के दूसरे दर्जे की प्रतियोगिता यूएफा लीग में खेलना होता है. लेकिन चैंपियंस लीग के मुकाबले यूएफा लीग को कोई नहीं पूछता. शायद यही वजह है कि उसे खत्म करके उसमें खेलने वाली टीमों को भी चैंपियंस लीग में मौका दिया जाए. हालांकि विश्व स्तर पर 64 टीमों के साथ कोई प्रतियोगिता नहीं होती है.

प्लातिनी ने इस बात से इनकार किया कि यूरोप की बड़ी लीग टीमें यूएफा से अलग होकर अपना खुद का लीग मुकाबला शुरू कर सकती हैं. उन्होंने कहा, "यह सवाल तो बार बार आता है. इससे मुझे चिंता नहीं होती है. मुझे नहीं लगता कि यह यूएफा के बिना हो सकता है. अगर ऐसा हुआ, तो रेफरी कहां से आएंगे. किन स्टेडियमों में वे खेलेंगे. क्या बहुत लोग ऐसा चाहते हैं. मुझे नहीं लगता."

एजेए/ओएसजे (डीपीए, एएफपी)

DW.COM

WWW-Links