1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

चेतावनी के बाद जर्मनी में सुरक्षा चौकसी जारी

आतंकवादी हमलों की चेतावनी के बाद जर्मनी ने सुरक्षा चौकसी तेज कर दी है. गृह मंत्री थोमास दे मिजियेर ने कहा है कि पाकिस्तानी क्षेत्र में गतिविधियों या जर्मनी में योजना के बहुत से संकेत हैं, जिनकी जांच की जा रही है.

default

गृह मंत्री ने कहा कि जर्मनी के लिए पहले की ही तरह खतरे की स्थिति गंभीर है, लेकिन हमले की किसी फौरी और ठोस योजना की खबर नहीं है. इस बीच जर्मन मीडिया में सवाल पूछे जा रहे हैं कि जर्मन सरकार पाकिस्तान के कबायली इलाके में अमेरिकी ड्रोन हमले में जर्मन नागरिकों के मारे जाने पर प्रतिक्रिया क्यों दे रही है.

सप्ताह के आरंभ में जब जर्मनी राष्ट्रपति के इस बयान पर बहस कर रहा था कि इस्लाम जर्मनी का हिस्सा है तो दूसरी ओर पाकिस्तान अफगानिस्तान सीमा पर अमेरिकी ड्रोन हमले में जर्मनी के कुछ इस्लामी कट्टरपंथियों के मारे जाने की खबर आ रही थी. पाकिस्तानी खुफिया सेवा ने कहा कि वजीरिस्तान के उत्तर में मिराली के मस्जिद पर रॉकेट हमले में आठ जर्मन इस्लामी कट्टरपंथी मारे गए हैं. उनके जिहाद इस्लामी गुट का सदस्य होने का संदेह है. जर्मन विदेश मंत्रालय की एक प्रवक्ता ने कहा है कि रिपोर्ट की जांच की जा रही है.

Pakistan Deutsche Islamisten getötet NO FLASH

इस तरह के ड्रोन का इस्तेमाल करता है अमेरिका

जर्मनी में एक ओर प्रवासियों को समाज में घुलाने मिलाने पर बहस हो रही है तो दूसरी ओर एक गुट तैयार हो रहा है जो जिहाद के नाम पर लोकतंत्र के खिलाफ लड़ रहा है. पश्चिमी देशों की खुफिया एजेंसियां पश्चिम में पैदा हुए मुसलमान कट्टरपंथियों को बड़ा खतरा मानने लगे हैं, क्योंकि वे अपने पासपोर्ट के सहारे आसानी से यूरोप में कहीं भी आ जा सकते हैं. बहुत से कट्टरपंथी अफगान पाकिस्तान सीमाक्षेत्र में जाते हैं और वहां कैंपों में ट्रेनिंग लेते हैं. बताया जा रहा है कि बागराम में कैद अफगान मूल के जर्मन नागरिक अहमद सिद्दीकी ने अमेरिकी सेना को यूरोपीय शहरों पर हमले की जानकारी दी है. अमेरिकी सेना ने पाकिस्तान के कबायली इलाकों में अपने ड्रोन हमलों में पिछले सप्ताहों में तेजी ला दी है. यह वह इलाका है जहां पाकिस्तान सेना ने अब तक कोई कार्रवाई नहीं की है. जर्मन आतंकवाद विशेषज्ञ एलमार थेवेसन का कहना है कि ड्रोन हमला ऐसे हमलों की योजना बनाने वालों को मारने और निष्क्रिय करने पर लक्षित था.

DW.COM

WWW-Links