1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

चुनाव ने बढ़ाए चीनी के दाम

मुंबई में कांग्रेस पार्टी के कार्यालय के पास एक रेस्तरां के मालिक नामदेव देसाई ने कोल्ड ड्रिंक का अंबार लगा लिया है. आने वाले दिनों में गर्मी की मार और चुनावी चहल पहल के बीच क्या पता कब स्टॉक कम पड़ जाए.

भारतीय आम चुनाव में पानी की तरह रुपया बह रहा है. जहां प्रचार के दौरान पार्टियों के लिए नारेबाजी में हिस्सा लेने वालों के लिए ठंडे पेय पदार्थों की मांग बढ़ी है. वहीं चीनी की मांग भी साथ साथ बढ़ती जा रही है. इस महीने चीनी के दाम रिकॉर्ड ऊंचे होने के संकेत हैं.

इससे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चीनी के दाम भी प्रभावित होंगे. चीनी की बढ़ रही मांग के बीच निर्यात की सप्लाई पर असर पड़ेगा. और अंतरराष्ट्रीय दामों में भी इजाफा होगा. अब तक अप्रैल में अंतरराष्ट्रीय दामों में पांच फीसदी तक गिरावट आई थी जो अब संभल सकेगी.

गर्मी का असर

मार्च महीने से ही भारत में गर्मी का असर शुरू हो जाता है और जुलाई तक भारी गर्मी रहती है. इन महीनों में कोल्ड ड्रिंक और आइसक्रीम जैसी चीजों की मांग बढ़ने से चीनी के दाम आम तौर पर भी बढ़ते हैं. लेकिन इस साल चुनावी रैलियों की रौनक से चीनी के दाम पर और भी ज्यादा असर पड़ा है. रैलियों में काफी बड़ी संख्या में लोग हिस्सा लेते हैं. कई जगह तो तीन लाख तक.

आम दिनों में 30 से 40 कोल्ड ड्रिंक की बोतलें बेचने वाले देसाई बताते हैं कि इन दिनों बिक्री बढ़ कर करीब 150 बोतलों तक पहुंच गई है. वह कहते हैं, "पार्टी कार्यकर्ताओं का हर रोज कोई न कोई कार्यक्रम होता है. वे कोल्ड ड्रिंक खरीदते रहते हैं. कार्यक्रम के दौरान तो प्रति घंटा 100 बोतलों की बिक्री होती है."

चीनी की बढ़ती मांग के बीच निर्यात में कमी आने से भारतीय चीनी के दाम बढ़े हैं. यह ब्राजील और थायलैंड से निर्यात हो रही चीनी से महंगी है. ब्राजील के बाद भारत चीनी उत्पादन के मामले में विश्व में दूसरे नंबर पर है.

रिकॉर्ड खर्च

मुंबई में भारतीय जनता पार्टी के एक नेता कहते हैं, "गर्मियों में चुनाव प्रचार आसान काम नहीं. आपको पार्टी कार्यकर्ताओं का ख्याल रखना होता है. उनके खाने पीने का ख्याल रखना पड़ता है वरना वे आपके लिए प्रचार नहीं करेंगे." अनुमान है कि भारतीय आम चुनाव में राजनेता चुनावी प्रचार पर करीब पांच अरब डॉलर खर्च कर रहे हैं.

बीजेपी के लिए प्रचार में हिस्सा लेने वाला मुंबई का फैजल शेख 18 साल का है. वह कहता है, "वे सब कुछ मुफ्त में देते हैं, कोल्ड ड्रिंक, खाना. मेरे प्रचार करने के पीछे यह भी एक खास वजह है." वह जोर से नारा लगाता है, "अबकी बार, मोदी सरकार!"

मार्च से अब तक चीनी के दाम में 10 फीसदी की बढ़ोत्तरी हो चुकी है. और आगे दाम और बढ़ने के संकेत हैं. बॉम्बे शुगर मर्चेंट्स असोसिएशन के अध्यक्ष अशोक जैन ने बताया, "मई तक भारत में चीनी की मांग ज्यादा ही रहेगी. अभी चुनाव जारी हैं और उसके बाद शादियों का सीजन शुरू हो जाएगा."

एसएफ/एएम (रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री