1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

चीन में फोक्सवागेन के दो नए कारखाने

तीन दिवसीय यात्रा के दौरान जर्मन चांसलर अंगेला मैर्कैल दोनों देशों के बीच व्यापारिक और निवेश से जुड़े समझौते कर रही हैं. 2005 में सत्ता में आने के बाद से यह मैर्केल की सातवीं चीन यात्रा है.

चीन और जर्मनी ने व्यापार और निवेश के क्षेत्रों में कई बड़े समझौते किए हैं. इनमें कार निर्माता कंपनी फोक्सवागेन के दो नए कारखाने खोलने और 123 एयरबस हेलीकॉप्टरों को बेचने की डील शामिल हैं. इस बार उनके साथ सीमेन्स, एयरबस, लुफ्थांसा और डॉयचे बांक के अलावा कई कंपनियों के कार्यकारी अधिकारी साथ गए थे. मैर्केल ने चीन के प्रधानमंत्री ली केचियांग के साथ मिलकर समझौते पक्के किए.

फोक्सवागेन के मुताबिक जर्मन कंपनी उत्तरी शहर तियानजिन और पूर्वी चिंगदाओ में दो अरब यूरो के निवेश के साथ दो कारखाने शुरू करेगी. यह चीनी निर्माता कंपनी एफएडबल्यू की साझेदारी में किया जाएगा. नए प्लांट की क्षमता को बाजार की मांग और औद्योगिक नीतियों के आधार पर तय किया जाएगा. चीन फोक्सवागेन का अहम और सबसे बड़ा बाजार बन गया है. इस साल के पहले पांच महीनों में कंपनी ने 15 लाख गाड़ियां बेचीं.

हेलीकॉप्टर सौदा

एयरबस ने बताया है कि उनके हेलीकॉप्टर विभाग ने छह साल में तीन अलग अलग कंपनियों को 123 हेलीकॉप्टर बेचने के सौदे पर हस्ताक्षर किए हैं. इक्यूरेई फैमिली के ये हेलीकॉप्टर सिंगल इंजिन वाले और हल्के दो इंजिन वाले ईसी135 हैं. इन्हें सामान्य उड़ानों के लिए इस्तेमाल किया जाता है. जर्मनी की उड्डयन कंपनी लुफ्थांसा ने भी सोमवार को जानकारी दी कि उन्होंने एयर चाइना के साथ एक साझेदारी पर साइन किए हैं. यह अक्टूबर से शुरू होगी. इससे अमेरिका के बाद सबसे बड़े विमानन बाजार में लुफ्थांसा को जाने का और बेहतर मौका मिलेगा.

जर्मनी ने पिछले साल चीन को करीब 67 अरब यूरो का सामान बेचा. यह अमेरिका के बाद दूसरा सबसे बड़ा बाजार है जबकि चीन से आने वाला सामान करीब 73 अरब यूरो का था. आर्थिक जरूरतों और बाजार से जुड़े समझौतों के बीच चांसलर मैर्केल ने मानवाधिकार के मुद्दों के बारे में देश की चिंता भी जताई.

एएम/एमजी (एएफपी, डीपीए)

संबंधित सामग्री