1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

चीन में क्रिकेट से उफान पर उम्मीदें

शनिवार को पहली बार चीन की टीम क्रिकेट के मैदान पर अपने पांव धरेगी. दक्षिण एशिया के लिए किसी धर्म जैसे क्रिकेट में चीन एशियन गेम्स के त्यौहार पर दीक्षा ले रहा है. एशियन गेम्स में इसी साल से चढ़ा है क्रिकेट का रंग.

default

12000 दर्शकों से खचाखच भरा झुआंगझू के यूनिवर्सिटी एरिया का स्टेडियम मस्ती से झूम रहा होगा जब चीन की महिला क्रिकेट टीम में मलेशिया के खिलाड़ियों से दो दो हाथ करने उतरेगी.

हफ्ते भर चलने वाले महिला क्रिकेट टूर्नामेंट के लिए सारे टिकट पहले ही बिक चुके हैं. आईसीसी भी खेलों के लिए एक बड़े बाजार के रूप में उभरते चीन को देख रहा है. क्रिकेट में पुरुषों के मुकाबले 21 नवंबर से शुरू होंगे. सभी मैच टी20 फॉर्मेट में खेले जाएंगे.

Cricket - Großbild

चीनी खिलाड़ियों को कोचिंग देने वाले पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेट राशिद खान ने कहा कि उनके शागिर्दो में दुनिया को अपना खेल दिखाने का जज्बा उफान मार रहा है. खान ने समचार एजेंसी एएफपी से कहा, "हमारी टीमों ने टूर्नामेंट की तैयारी में कड़ी मेहनत की है और मैं गोल्ड मेडल जीतने का दावा तो नहीं कर रहा लेकिन इतन तो तय है कि हमारा खेल सबको हैरत में डाल देगा."

एशियन क्रिकेट काउंसिल की पहल पर खान ने 2006 में चीनी खिलाड़ियों को ट्रेनिंग देने की शुरूआत की. खान कहते हैं कि स्थानीय लोगों को क्रिकेट सिखाना कोई बहुत मुश्किल काम नहीं रहा. खान के मुताबिक,"ये लोग जल्दी सीख जाते हैं, कड़ी मेहनत करते हैं और हमेशा एकदम फिट रहते हैं."

खान के मुताबिक चीनी खिलाड़ी फिल्डिंग और बल्लेबाजी तो आसानी से कर ले रहे हैं लेकिन बैटिंग करने में उन्हें दिक्कत आ रही है. हालांकि वो कहते हैं, "अभी भी वो इस हाल में हैं कि ढेर सारे चौके और छक्के मार सकें."

एशियन गेम्स के लिए ग्रुप ए में चीन और मलेशिया के अलावा पाकिस्तान और थाईलैंड भी हैं जबकि दूसरे ग्रुप में बांग्लादेश, हॉन्कॉन्ग, जापान और नेपाल है. इन दोनों ग्रुपों से सेमी फाइनल के लिए दो दो टीमों का चुनाव होगा.

अगले रविवार को जब एशिया की टेस्ट खेलने वाली पाकिस्तान, बांग्लादेश और श्रीलंका की टीमें मैदान पर उतरेंगी तो उनके सामने चीनी खिलाड़ी थोड़े छोटे दिखेंगे इसके साथ ही तेजी से अपनी रैंकिंग में सुधार कर रहा अफगानिस्तान भी सामने होगा.

भारतीय क्रिकेट टीम घरेलू और अंतरराष्ट्रीय मुकाबलों में व्यस्त होने के कारण एशियन गेम्स में हिस्सा नहीं ले रही है. श्रीलंका, पाकिस्तान और बांग्लादेश ने भी अपनी दूसरे दर्जे की टीम मुकाबले में भेजी है. एशियन क्रिकेट काउंसिल के चेयरमैन अशरुफुल हक गेम्स में भारत के शामिल न होने से हैरत में हैं.

दूसरे खेलों के साथ क्रिकेट पहली बार 1998 के कुआलालंपुर कॉमनवेल्थ गेम्स में सामने आया था लेकिन उसके बाद अगले तीन खेल आयोजनों के लिए उसे हटा दिया गया. हक का कहना है कि एशियन गेम्स में शामिल होने के बाद 2014 में दक्षिण कोरिया में होने वाले कॉमनवेल्थ गेम्स में भी इसे शामिल किया जाएगा.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः उज्ज्वल भट्टाचार्य