1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

चीन ने भी देखा 'मलबा'

ऑस्ट्रेलिया के बाद चीन ने भी हिन्द महासागर में ऐसी चीज देखने का दावा किया है, जो ढाई हफ्ते से लापता मलेशियाई विमान का मलबा हो सकता है. इसके बाद रहस्यमयी तरीके से गायब हुए विमान के पता लगने की संभावना बढ़ गई है.

हालांकि ये इलाके इंसानी आबादी से बहुत दूर हैं और यहां तक पहुंचना दूभर भरा काम है. अमेरिका में बना बोइंग 777 विमान मलेशियाई राजधानी क्वालालंपुर से बीजिंग की तरफ चला था लेकिन घंटे भर बाद 239 यात्रियों सहित इसका संपर्क कट गया और उसके बाद से इसका कोई पता नहीं चल पाया है. चीन के दावे के बाद ऑस्ट्रेलियाई नौसैनिक सुरक्षा एम्सा का कहना है कि इसे जानकारी मिल गई है और वह नई जगह पर खोज के लिए विमान भेजने की तैयारी कर रहा है.

कई टुकड़े दिखे

चीन की संवाद एजेंसी शिन्हुआ ने लिखा है कि चीनी विमान इल्युशिन आईएल 76 ने दो "काफी बड़े" और कई छोटे सफेद टुकड़ों को देखा है, जो कई किलोमीटर के दायरे में फैले हैं. एजेंसी के मुताबिक चीन ने बर्फ तोड़ने वाले जहाज जुइलांग को उस तरफ मोड़ दिया है. इसके अलावा कुछ और चीनी जहाज दक्षिण की तरफ बढ़ रहे हैं. लापता विमान में 150 से ज्यादा चीनी नागरिक थे.

Suche Malaysian Airlines MH370 22.03.2014

विमान की तलाश

चीन और ऑस्ट्रेलिया सहित लगभग दो दर्जन देश विमान खोजने की कोशिश में लग गए हैं. अमेरिका ने ब्लैक बॉक्स का पता लगाने वाले विशेष उपकरणों को इलाके में भेजा है. ब्लैक बॉक्स का जल्द पता लगाना जरूरी है क्योंकि 30 दिन बाद इसके संकेत खत्म होने लगते हैं. अमेरिका के सातवें फ्लीट के अधिकारी कमांडर क्रिस बुड्डे ने कहा, "अगर मलबा मिलता है, तो हमें तेजी से काम करना होगा क्योंकि ब्लैक बॉक्स की बैट्री ज्यादा नहीं चलती."

नासा के उपकरण

बुड्डे ने बताया कि एक जहाज के पीछे ब्लैक बॉक्स खोजने वाले उपकरण को लगाया गया है, जो 20,000 फीट की गहराई तक में छिपे ब्लैक बॉक्स का सिग्नल पकड़ सकता है. चीनी विमान के अलावा ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, अमेरिका और जापान के विमान भी इलाके में टोह ले रहे हैं. यह जगह ऑस्ट्रेलियाई शहर पर्थ से करीब 2500 किलोमीटर दूर है.

दूरदराज का इलाका होने के अलावा मौसम से भी दिक्कत हो रही है. तलाशी का काम रडार से नहीं, बल्कि बिना किसी उपकरण की मदद के हो रहा है. खराब मौसम में यह आसान नहीं है. ऑस्ट्रेलिया के उप प्रधानमंत्री वारेन ट्रस का कहना है, "बहुत ढेर से पानी में बहुत छोटी सी चीज देखनी है. खराब मौसम का पूर्वानुमान भी लगाया गया है."

इसके अलावा फ्रांसीसी रडार से लिए गए चित्रों का भी मुआयना किया जा रहा है. इसमें कुछ चीजों को दिखाया गया है, जो मौजूदा खोज की जगह से 850 किलोमीटर दूर है. एम्सा प्रवक्ता ने बताया कि उन्हें अभी अभी यह जानकारी मिली है और इस पर नजर रखी जा रही है.

बोइंग 777 विमान के डैने 27 मीटर लंबे और 14 मीटर चौड़े होते हैं, जबकि इसकी पूरी बॉडी करीब 64 मीटर लंबी होती है. नासा ने कहा है कि अब वह हाई रिजॉल्यूशन वाले कैमरे का इस्तेमाल करके हिन्द महासागर में तलाशी का काम बढ़ाएगा.

एजेए/एमजे (रॉयटर्स)

संबंधित सामग्री