1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

चीन को पीछे छोड़ भारत होगा नंबर वन

भारत 2025 तक चीन को पछाड़ दुनिया का सबसे घनी आबादी वाला देश बनने के रास्ते पर है. अमेरिकी जनगणना ब्यूरो के आंकड़ों में यह बात कही गई है जिससे एशिया में इन दोनों बड़े देशों के बीच कई बदलाव देखने को मिलेंगे.

default

आबादी बढ़ेगी, उम्मीदें बढेंगी

इसी हफ्ते जारी सेंसस ब्यूरो के ताजा अनुमान के मुताबिक 2025 में भारत की आबादी 1.396 अरब हो सकती है. इस तरह भारत चीन को भी पीछे छोड़ देगा जिसकी आबादी इससे कहीं धीमी गति से बढ़ रही है. चीन में 1980 से ज्यादातर महिलाओं को एक ही बच्चा पैदा करने की अनुमति दी गई है. इस विवादास्पद नीति का मकसद देश की आबादी को हद से ज्यादा बढ़ने से रोकना है.

चीन में महिलाएं औसतन 1.5 बच्चे पैदा कर रही हैं जबकि भारत में प्रति महिला यह आंकड़ा 2.5 बच्चों तक जाता है. हालांकि भारत में भी शिक्षा और शहरीकरण के बढ़ने से जन्मदर में कमी आई है. आबादी के मामले में भारत के आगे निकल जाने से एशिया की इन दो बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच कई तरह के बदलाव देखने को मिल सकते हैं. दोनों ही देश अभी दुनिया की सबसे तेजी से उभरती हुई अर्थव्यवस्थाएं हैं.

चीन में अभी वृद्धि दर भारत के मुकाबले ज्यादा है क्योंकि युवा कामगारों की बड़ी तादाद देश के निर्यात को बढा़ने में भरपूर योगदान दे रही है. लेकिन आने वाले सालों में चीन को कामगारों की कमी और पेंशन पाने वालों की संख्या में बड़ी वृद्धि का सामना कर पड़ सकता है.

अमेरिकी सेंसस ब्यूरो का अनुमान है कि आने वाले 15 सालों में आबादी के मामले में बड़े देशों की रैंकिंग में किसी बदलाव के आसार नहीं हैं. चीन और भारत के बाद अमेरिका दुनिया का तीसरा सबसे घनी आबादी वाला देश बना रहेगा. वैसे अमीर देशों में अमेरिका की आबादी औरों के मुकाबले कहीं तेजी से बढ़ रही है, लेकिन पिछले कुछ दशकों में यह रफ्तार धीमी पड़ी है. अमेरिका के बाद इंडोनेशिया, ब्राजील, पाकिस्तान, बांग्लादेश और नाइजीरिया का नंबर आता है.

जिन देशों की जनसंख्या कम होने का अनुमान जताया गया है उनमें जापान, रूस और जर्मनी शामिल हैं. बहुत सालों से इन देशों की जन्मदर बेहद कम रही है. सेंसस ब्यूरो का कहना है कि जापान अभी दुनिया का दसवां सबसे घनी आबादी वाला देश है, लेकिन 2050 में वह बीसवें पायदान पर पहुंच सकता है. आंकड़े बताते हैं कि अफ्रीकी देश इथोपिया में जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है. वह 2050 तक दुनिया का छठा सबसे घनी आबादी वाला देश बन सकता है. डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो की जनसंख्या बढ़ने का भी अनुमान है. वहां प्रति महिला प्रजनन दर 5.4 बच्चे है जो दुनिया में सबसे अधिक है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ए कुमार

संपादन: महेश झा

DW.COM

WWW-Links