1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

चीनी ज़मीन पर अहमदीनेजाद के मुश्किल क़दम

चीन द्वारा संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों के समर्थन के तुरंत बाद ईरानी राष्ट्रपति महमूद अहमदीनेजाद वहां की यात्रा कर रहे हैं. शंघाई के अपने पत्रकार सम्मेलन में चीन की आलोचना से बचते हुए वे अमेरिकी राष्ट्रपति पर बरसे.

default

मैं समझता हूं कि राष्ट्रपति ओबामा ने एक भारी ग़लती की है. उन्हें पता है कि कोई असर नहीं होगा. बहुत जल्दी उन्हें पता चल जाएगा कि उन्होंने सही रास्ता नहीं चुना है और ईरानी जनता के साथ दोस्ताने रिश्ते की राह में रोड़े अटकाए हैं. - ईरानी राष्ट्रपति महमूद अहमदीनेजाद का कहना था.

ईरानी राष्ट्रपति ने वाशिंगटन पर आरोप लगाया कि वह अपनी मानसिक रूप से पिछड़ी नीति के साथ समूचे मध्य पूर्व को निगल जाना चाहता है. उनकी राय में मध्य पूर्व पर नियंत्रण हासिल करते हुए अमेरिका सारी दुनिया में प्रभुत्व की ओर बढ़ रहा है, और ईरान कभी भी इसकी इजाज़त नहीं देगा. उन्होंने आरोप लगाया कि बराक ओबामा अब बुश के रास्ते पर चल रहे हैं.

चीन के बारे में उन्होंने कहा कि प्रतिबंधों के प्रति चीन के समर्थन से दोनों देशों के बीच संबंध नहीं बिगड़ेंगे. लेकिन साथ ही उन्होंने सभी परमाणु सत्ताओं पर आरोप लगाया कि वे इस तकनीक पर अपना एकाधिकार बनाए रखना चाहते हैं.

राष्ट्रपति अहमदीनेजाद ने ध्यान दिलाया कि चीन हर साल ईरान से दसियों लाख बैरल कच्चा खनिज तेल ख़रीदता है, वह महीनों तक नए प्रतिबंधों को रोकता रहा है, और अंततः रूस के साथ मिलकर उसने प्रतिबंधों को नरम बनाया है.

अहमदीनेजाद ने यह भी कहा कि प्रतिबंधों की वजह से ईरान अंतर्राष्ट्रीय परमाणु उर्जा एजेंसी के सात अपना सहयोग बंद नहीं करेगा. उन्होंने कहा कि उनके जांचकर्ताओं को ईरान नहीं छोड़ना पड़ेगा. शांतिपूर्ण परमाणु कार्यक्रम के सिलसिले में कोई समस्या नहीं है. साथ ही उन्होंने प्रतिबंधों के ख़िलाफ़ मतदान करने के लिए ब्राज़ील व तुर्की के प्रति अपना आभार व्यक्त किया.

रिपोर्ट: एजेंसियां/उभ

संपादन: आभा मोंढे

संबंधित सामग्री