1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

चिली के खनिकों के लिए खुली तोहफों की खान

चिली की खान में 69 दिन तक फंसे रहने के बाद बाहर निकले खनिकों पर तोहफों की बरसात हो रही है. ये लोग देश में सेलिब्रिटी हो गए हैं. एल्विस प्रेस्ली के महल की यात्रा से लेकर फुटबॉल मैच तक हर जगह से इन्हें न्योता मिल रहा है.

default

खान से बाहर आने के एक दिन बाद सभी खनिकों की अस्पताल में पूरी जांच हुई और कुछ लोगों का इलाज भी किया गया. वे लोग इतने दिन अंधेरे में रहे हैं इसलिए अब भी उन्हें सूरज की रोशनी के आदी हो जाने तक काला चश्मा पहनना होगा. हालांकि वे 69 दिनों तक जमीन के नीचे असामान्य हालात में रहे लेकिन उनकी सेहत आश्चर्यजनक रूप से अच्छी है. इन लोगों ने जमीन के नीचे सबसे लंबे समय तक फंसे रहने का रिकॉर्ड बना दिया है.

Präsident Pinera Chile Bergleute Rettung

राष्ट्रपति सेबास्टियन पिनयेरा के साथ सभी खनिक

गुरुवार को इन लोगों ने स्वास्थ्य जांच के बीच ज्यादातर वक्त अपने परिवार वालों के साथ बिताया. अब ये लोग आ रहे प्रस्तावों और तोहफों को देख रहे हैं. इन खनिकों में से एक एडिसन पेना मशहूर गायक एल्विस प्रेस्ली के फैन हैं. उन्हें अमेरिका के मेंफिस में प्रेस्ली के उस शानदार घर की यात्रा पर बुलाया गया है जिसे ग्रेसलैंड मेंशन कहते हैं. अब इस मेंशन को एक म्यूजियम में तब्दील कर दिया गया है. ग्रेसलैंड की प्रवक्ता एलिसिया डीन ने इस बात की पुष्टि करते हुए कहा, "हमने खबरों में सुना कि वह एल्विस प्रेस्ली के दीवाने हैं."

पेना की पत्नी ने कहा कि इस प्रस्ताव से वे दोनों बहुत खुश हैं लेकिन वहां जाने के बारे में अभी उन्होंने कोई फैसला नहीं किया है.

उधर फुटबॉल क्लब रीयाल मैड्रिड और मैनचेस्टर यूनाइटेड ने फुटबॉल के दीवाने इन खनिकों को यूरोप में अपना खेल देखने का न्योता दिया है. इन खनिकों को वित्तीय उपहार भी खूब मिल रहे हैं. एक स्थानीय गायक और बिजनसमैन ने हर खनिक को 10 हजार डॉलर दिए हैं. कंपनी एपल के बॉस स्टीव जॉब्स ने हर खनिक के लिए आधुनिक आईपॉड भेजा है. ग्रीस की एक कंपनी ने इन सभी को एक द्वीप की यात्रा का प्रस्ताव भेजा है.

ऐसी उम्मीद की जा रही है कि अब इन खनिकों को नौकरियों, विज्ञापनों और अपनी कहानियां बेचने के प्रस्ताव भी खूब मिलेंगे. इनकी कहानियां फिल्मों और किताबों के लिए बिक सकती हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः महेश झा

DW.COM

WWW-Links