1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

पहला पन्ना

चिदंबरम पाकिस्तान में, गृहमंत्री से मीठी मुलाकात

तीन दशकों के बाद किसी भारतीय गृहमंत्री की पहली पाकिस्तान यात्रा पर गए चिदंबरम का पाकिस्तान में भव्य स्वागत. पाकिस्तानी गृहमंत्री से मुलाकात में चिदंबरम ने उठाई हाफिज सईद और मुंबई हमले के दोषियों पर कार्रवाई की मांग.

default

पाकिस्तान में चिदंबरम

सार्क देशों के गृहमंत्रियों की बैठक पर भारत-पाक रिश्तों की छाया ना पड़े इसलिए चिंदबरम अपना मुंह बंद किये हुए हैं. हालांकि पाकिस्तानी गृहमंत्री के साथ मुलाकात में उन्होंने जमात उद दावा के मुखिया हाफिज सईद और मुंबई हमले की साजिश रचने वालों पर सख़्त कार्रवाई की मांग उठाई. इसके साथ ही जम्मू कश्मीर में घुसपैठ का मसला भी उठा. हालांकि दोनों नेताओं ने क्या बातचीत हुई ये नहीं बताया लेकिन समझा जाता है कि भारत ने उन लोगों की आवाज़ के नमूने देने की भी मांग की है जो मुंबई हमलों में आतंकवादियों को निर्देश दे रहे थे. पाकिस्तानी आर्मी में मौजूद हमलावरों के मददगारों पर भी कार्रवाई की मांग भारत ने पाकिस्तान के सामने रखी है.

Pakistans Innenminister Rehman Malik auf PK zum Tod des Talibanführers Mehsud

गृहमंत्री ने चिदंबरम की अगवानी की

बैठक के बाद मलिक ने कहा कि बातचीत की अच्छी शुरूआत हुई है हालांकि इसमें कोई फैसला नहीं लिया गया. मलिक ने ये भी कहा कि भारत पाकिस्तान के बीच डॉजियर के बजाए दिलों की अदलाबदली ज्यादा जरूरी है.

मुंबई हमले के बाद पहली बार भारत का कोई मंत्री पाकिस्तान पहुंचा है. लाल कालीन के साथ ही पारंपरिक गार्ड ऑफ ऑनर भी चिंदबरम के लिए पलकें बिछाए मौजूद था. रावलपिंडी के सैनिक हवाई अड्डे चकाला पर विमान से बाहर निकलते ही खुद पाकिस्तानी गृहमंत्री को सामने देख चिदंबरम बेहद खुश हुए. वीआईपी लाउंज तक दोनों नेताओं को बात करते हुए साथ चलते देखना मौके पर मौजूद पत्रकारों को भी खूब भाया. चिदंबरम और रहमान कई बार फोटो खिंचाने के लिए रूके और हाथ हिलाकर लोगों का अभिवादन किया. पाकिस्तानी गृहमंत्रालय में 45 मिनट के लिए बुलाई गई बैठक दो घंटे से ज्यादा चली. एक घंटे तक तो रहमान और चिदंबरम आपस में ही बात करते रहे. इसके बाद साथ के बाकी सदस्य भी बैठक में शामिल हुए. चिदंबरम ने बाद में विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी से भी मुलाकात की.

रिपोर्टः एजेंसियां/ एन रंजन

संपादनः महेश झा