1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

चार साल बाद संसद पहुंचे बीमार फिडेल

क्यूबाई क्रांति के नेता फिडेल कास्त्रो चार साल पहले गंभीर रूप से बीमार होने के बाद पहली बार संसद में पहुंचे और संसद अधिवेशन में परमाणु युद्ध के खतरे की चेतावनी दी.

default

फिडेल और राउल कास्त्रो

फिडेल कास्त्रो के आग्रह पर ही राष्ट्रीय सभा की विशेष बैठक बुलाई गई थी. 13 अगस्त को 84 साल के हो रहे कास्त्रो ने अपने भाषण में उत्तर कोरिया और ईरान पर अमेरिका की नीति की कड़ी आलोचना की और चेतावनी दी कि परमाणु युद्ध का खतरा है. उन्होंने एक बार फिर पूंजीवादी व्यवस्था की आलोचना करते हुए कहा कि वह अन्य बातों के अलावा वैश्विक जलवायु परिवर्तन को रोकने में विफल रहा है. घरेलू मुद्दों पर फिडेल कास्त्रो ने कोई टिप्पणी नहीं की.

Fidel Castro mit Bruder Raul und Hugo Chavez

बीमारी के दिनों ट्रैक सूट में दिखे हैं फिडेल

जब वे शनिवार सुबह अपने भाई और उत्तराधिकारी राउल कास्त्रो के साथ संसद भवन पहुंचे तो वयोवृद्ध नेता का उत्साह के साथ स्वागत हुआ. अपने जवानी के दिनों की तरह फिडेल कास्त्रो ने जैतूनी वर्दी पहन रखी थी. संसद के 610 सदस्य उठ खड़े हुए और कई मिनट तक तालियां बजाते रहे. उसके बाद उन्होंने मध्यपूर्व में परमाणु युद्ध के कथित खतरे पर चर्चा शुरू की. फिडेल कास्त्रो का कहना है कि इसकी परिस्थितियां अमेरिका द्वारा पैदा की जा रही हैं.

फिडेल कास्त्रो ने गंभीर रूप से बीमार होने के बाद 2006 में सरकारी जिम्मेदारियां पांच साल छोटे भाई राउल को सौंप दी थी. लेकिन वे क्यूबा की कम्युनिस्ट पार्टी के प्रथम सचिव के पद पर बने हुए हैं. पिछले सप्ताहों में वे अक्सर सार्वजनिक रूप से दिखे हैं और विभिन्न अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर अपनी राय व्यक्त करते रहे हैं.

एक सप्ताह पहले राउल कास्त्रो ने संसद में घोषणा की थी कि सरकार आर्थिक क्षेत्र में निजी पहलकदमियों की अनुमति देगी. भविष्य में क्यूबा के नागरिक छोटे उद्यम खोल पाएंगे और लोगों को नौकरी भी दे पाएंगे. अब तक सिर्फ छोटे सैलून और टैक्सी चलाने की इजाजत थी. साथ ही सरकारी उद्यमों के लाखों गैरजरूरी कर्मचारियों की छंटनी की जाएगी. राउल कास्त्रो ने राजनीतिक सुधारों की मांग एक बार फिर ठुकरा दी है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/महेश झा

संपादन: ओ सिंह

DW.COM

WWW-Links