1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

चार और खिलाड़ी फिक्सिंग में शामिल!

मैच फिक्सिंग के आरोपों से जूझती पाकिस्तान की टीम के लिए नई मुसीबत खड़ी होती नजर आ रही है. बुकी मजहर मजीद ने कहा है कि उमर अकमल, वहाब रियाज, कामरान अकमल और इमरान फरहत फिक्सिंग में शामिल हैं.

default

कुछ महीने पहले सलमान बट, मोहम्मद आसिफ और मोहम्मद आमेर स्पॉट फिक्सिंग के घेरे में आ गए थे और उन्हें टीम से निलंबित कर दिया गया था. इंग्लैंड में रहने वाले बुकी मजहर मजीद अब कह रहे हैं कि इन तीन खिलाड़ियों के अलावा अकमल बंधु, रियाज और फरहत ने भी उन्हें मैच फिक्स करने में मदद की जिसके बदले में उन्हें धन का भुगतान किया जाता है.
पाकिस्तान के जियो न्यूज चैनल ने एक वीडियो प्रसारित किया है जिसमें मजीद ब्रिटेन में अपने घर में सोफे पर बैठे हुए दिखाए गए हैं. वह टेबलॉयड न्यूज ऑफ द वर्ल्ड के रिपोर्टर से बातचीत में पाकिस्तान खिलाड़ियों से अपने संपर्कों का दावा कर रहे हैं और बता रहे हैं कि टीम का कौन सा खिलाड़ी मैच फिक्सिंग में शामिल है.

अभी यह स्पष्ट नहीं है कि यह वीडियो फुटेज कब का है लेकिन माना जा रहा है कि इसे अगस्त महीने में रिकॉर्ड किया गया क्योंकि मजीद सलमान बट को कप्तान बता रहे हैं. इस साल स्पॉट फिक्सिंग के आरोप लगने से पहले इंग्लैंड दौरे में टेस्ट कप्तान सलमान बट थे. मजीद वीडियो में कहते हैं कि 11 में से 7 खिलाड़ी उनके साथ हैं. मजीद साफ शब्दों में कहते हैं कि टीम के वरिष्ठ सदस्यों के बजाए वह युवाओं से संपर्क साधने में विश्वास रखते हैं क्योंकि वह भविष्य की सोच कर चलते हैं.

जब वीडियो में मजहर मजीद से पूछा जाता है कि सलमान बट पर क्या भरोसा किया जा सकता है तो मजीद कहते हैं कि उन पर 200 फीसदी भरोसा किया जा सकता है और वह लंबे समय तक पाकिस्तान क्रिकेट टीम के कप्तान बने रहेंगे. मजीद के मुताबिक शाहिद अफरीदी, अब्दुल रज्जाक, यूनुस खान और सईद अजमल ईमानदार हैं और वह भ्रष्टाचार में लिप्त नहीं हैं.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने जांच पूरी होने तक सलमान बट, मोहम्मद आसिफ और मोहम्मद आमेर को टीम से निलंबित कर दिया था. ब्रिटेन के न्यूज ऑफ द वर्ल्ड अखबार ने एक स्टिंग ऑपरेशन में दिखाया कि मजहर मजीद तीन खिलाड़ियों के लॉर्ड्स टेस्ट में स्पॉट फिक्सिंग में शामिल होने का दावा कर रहे हैं. स्कॉटलैंड यार्ड इस मामले की जांच कर रही है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: एन रंजन

DW.COM